PM का स’रा’ब अटैक, कांग्रेस का पलटवार- लोकतंत्र का मजाक न बनाएं, माफी मांगे

नई दिल्‍ली। उत्‍तर प्रदेश के मेरठ में बृहस्पतिवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने एक चुनावी जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी की न्‍याय योजना का मजाक उड़ाया, जिस पर कांग्रेस के प्रवक्‍ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पलटवार किया है। सुरजेवाला ने कहा कि न्‍याय योजना का मजाक उड़ाकर पीएम ने गरीबों का मजाक उड़ाया है। कांग्रेस मांग करती है कि पीएम इस बात के लिए देश की गरीब जनता से माफी मांगें।
सुप्रीम कोर्ट: फिल्‍म ‘राम की जन्‍मभूमि’ पर रोक से इनकार, मध्‍यस्‍थता पर नहीं पड़ेगा असर
बसपा, सपा और रालोद की तुलना ‘सराब’ से न करें कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि मोदी जी आपमें इतना घमंड और अहंकार कहां से आ गया। एक बार आपने नोटबंदी की नीति पर अमलकर गरीबों का मजाक उड़ाया था। अब आपने कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी की न्‍याय योजना का मजाक उड़ाकर देश के गरीबों का अपमान किया है।
सुरजेवाला ने कहा कि पीएम ने सपा, रालोद और बसपा के पहले अक्षर जोड़कर ‘सराब’ बनाकर लोकतांत्रिक मर्यादाओं का उल्‍लंघन किया है।
सीएम कुमारस्वामी की घोषणा हुई सच साबित, तड़के आयकर विभाग ने मारा छापा
एक्रोनिम गढ़ने के अलावा और कोई काम नहीं उन्‍होंने कहा कि सच्‍चाई यह है कि पीएम नरेंद्र मोदी फ्लॉप फिल्‍मों के फ्लॉप एक्‍टर की तरह हैं जो हमेशा एक्रोनिम गढ़ते रहते हैं। यही काम उन्‍होंने आज मेरठ में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते समय किया है। उन्‍होंने कहा कि देश के गन्‍ना किसानों का 20 हजार करोड़ रुपए बकाया भुगतान क्‍यों नहीं कराया। सबसे ज्‍यादा बकाया यूपी के किसानों का है। क्‍या आपके पास इसका जवाब है।
भाजपा के ‘शत्रु’ आज होंगे कांग्रेस में शामिल, पटना साहिब से रविशंकर को देंगे चुनौती

LIVE: Press briefing by Randeep Singh Surjewala, I/C, AICC Communications https://t.co/SS8nJhfXoU— Congress Live (@INCIndiaLive) March 28, 2019

गरीबों का श्राप, माफ नहीं करता उन्‍होंने पीएम को चेताते हुए कहा कि गरीबों का श्राप जब लगता है तो वो माफ नहीं करता है। तीन राजनीतिक दलों की ‘सराब’ से संज्ञा कर मोदी जी आपने न केवल लोकतांत्रिक परंपराओं का मजाक उड़ाया है बल्कि गरीब और दलितों की बात करने वाली पार्टी के नेताओं का भी मजाक उड़ाया है।
उन्‍होंने आगे कहा कि राजनीतिक दलों के बीच मतभेद हो सकते हैं लेकिन आपने सारी मर्यादा तोड़कर रख दी हैं। उन्‍होंने कहा कि लोकतांत्रिक मूल्‍यों का इतना बड़ा मजाक शायद ही किसी राजनेता ने उड़ाया हो। आप अपने शब्‍द वापस लें और माफी मांगें।