JDU का न्योता, PM मोदी के समर्थन में आएं BJD और YSR कांग्रेस

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव ( Loksabha Election ) के लिए छह चरणों का मतदान हो चुका है। 19 मई को अंतिम चरण के लिए वोटिंग होगी। वहीं, 23 मई को चुनाव के नतीजे घोषित किए जाएंगे। लेकिन, चुनाव परिणाम आने से पहले ही सरकार बनाने को लेकर कुछ पार्टियों ने कवायद शुरू कर दी है। पिछले दो दिनों से तेलंगाना राष्ट्र समिति ( TRS ) के अध्यक्ष के चंद्रशेखर राव ( K. Chandrashekar Rao ) ने कई दलों के नेताओं से मुलाकात की है। वहीं, अब भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) के सहयोगी दल जनता दल यूनाइटेड ( JDU ) ने सरकार गठन के लिए पहल शुरू कर दी है। JDU के महासचिव केसी त्यागी ( K. C. Tyagi ) बीजू जनता दल ( BJD ) और वाईएसआर कांग्रेस ( YSR Congress ) को साथ आने का न्योता दिया है।
पढ़ें- मणिशंकर ने बढ़ाई कांग्रेस की टेंशन! मोदी पर दिए आपत्तिजनक बयान को ठहराया सही
केसी त्यागी ने चली नई सियासी चाल!
केसी त्यागी ने बिहार में मीडिया से बात करते हुए कहा कि बिहार, ओडिशा और आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने में कुछ टेक्निकल दिक्कतें हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि इस बार यह मुद्दा मोदी सरकार पर दबाव बनाने के लिए नहीं बल्कि कम करने के लिए हैं। इस बाबत जेडीयू नेता ने नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी को पीएम नरेन्द्र मोदी का समर्थन में साथ आने का न्योता भी दिया है। ऐसा माना जा रहा है कि अगर एनडीए को पूर्ण बहुमत नहीं मिली और कुछ सीटों की जरूरत पड़ी तो नवीन पटनायक और जगन मोहन रेड्डी एनडीए के साथ आ सकते हैं। ऐसे में जेडीयू की ओर से इस तरह का अचानक बयान देने से सियासी हलचल तेज हो गई है। हालांकि, बीजेडी और वाईएसआर कांग्रेस की ओर से अभी तक इस मामले को लेकर कोई बयान नहीं दिया गया है।
पढ़ें- नवजोत कौर का बड़ा आरोप, कैप्टन अमरिंदर के कारण कांग्रेस सिद्धू से नहीं करवा रही प्रचार
तीसरा मोर्चा बनाने में जुटे केसीआर
गौरतलब है कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने भी गैर कांग्रेस-गैर भाजपा सरकार बनाने के लिए कवायद शुरू कर दी है। सोमवार को उन्होंने डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन से मुलाकात की थी। हालांकि, स्टालिन ने मंगलवार को कहा कि अभी कुछ कहा नहीं जा सकता, जब तक चुनाव परिणाम न घोषित हो जाए।