BJP में शामिल होते ही जया प्रदा को मिला रामपुर से टिकट, बोलीं- मैं घर वापस जा रही हूं

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी का दामन का थामने के कुछ ही घंटों बाद जया प्रदा को बीजेपी ने बड़ा इनाम दिया है। बीजेपी ने जया को उत्तर प्रदेश के रामपुर से लोकसभा का प्रत्याशी घोषित किया है। नाम की घोषणा होने के बाद जया प्रदा की प्रतिक्रिया आई है। उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी ने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह लोकसभा का टिकट दिया।
लोग मुझे दिल से प्यार करते हैं: जया प्रदा
जया प्रदा ने कहा कि रामपुर ने हमेशा मुझे प्यार और स्नेह दिया है। लोग मुझे दिल से प्यार करते हैं। उन्होंने आगे कहा कि मुझे ऐसा लगता है कि मैं घर वापस जा रही हूं। बता दें रामपुर में जया प्रदा का मुकाबला समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता आजम खां से होना है।
विजयवर्गीय का दावा: आडवाणी-जोशी ने खुद लोकसभा चुनाव लड़ने से किया इनकार

Jaya Prada , BJP: I’m feeling happy, I’m thankful to Amit Shah ji and Modi ji for having the confidence in me & giving me this seat. Rampur has always given me love and affection, the people love me with all their hearts, It feels like I’m going back home. pic.twitter.com/NbW8DrbDg9— ANI UP (@ANINewsUP) March 26, 2019

बीजेपी की 10वीं सूची में आया जया का नाम
बीजेपी ने मंगलवार की शाम लोकसभा प्रत्याशियों की दसवीं सूची जारी की है। बीजेपी के महासचिव अरुण सिंह ने पार्टी मुख्यालय से 39 नामों का ऐलान किया। इसमें उत्तर प्रदेश की 29 और पश्चिम बंगाल की दस लोकसभा सीटों के लिए प्रत्याशी घोषित किए गए हैं। इसमें रामपुर से जयाप्रदा, पीलीभीत से वरुण गांधी, सुल्तानपुर से मेनका गांधी, कानपुर से सत्यदेव पचौरी, इलाहाबाद से रीता बहुगुणा समेत अन्य शामिल हैं।
1994 में राजनीति में हुई जया की एंट्री
इससे पहले मंगलवार की सुबह समाजवादी पार्टी (सपा) की पूर्व नेता जया प्रदा बीजेपी में शामिल हो गईं। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में उन्होंने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की। जया प्रदा ने 2009 और 2014 चुनाव में रामपुर का प्रतिनिधित्व किया था। दोनों बार उन्होंने रामपुर से कांग्रेस की नूर बानो को शिकस्त दी थी। उन्होंने 1994 में तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) में शामिल होकर राजनीति में प्रवेश किया था। बाद में वह समाजवादी पार्टी में शामिल हो गई थीं लेकिन पार्टी विरोधी गतिविधियों की वजह से 2010 में उन्हें निष्कासित कर दिया गया था।