शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान, ‘मै चौकीदार नहीं, जन्मजात शिवसैनिक हूं’

नई दिल्ली। शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी के दिल भले ही मिल गए हों, लेकिन विचारों में अब भी अंतर है। भारतीय जनता पार्टी के ‘मैं भी चौकीदार’ कैंपेन को लेकर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा, ‘मैं चौकीदार नहीं, बल्कि जन्म से शिवसैनिक हूं’।
‘मैं जन्मजात शिवसैनिक’
सामना के कार्यकारी संपादक और शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत को दिए साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि मुझे चौकीदार होने की जरूरत नहीं है। मैं जन्मजात शिवसैनिक हूं और आगे भी शिवसैनिक ही रहूंगा। उद्धव ठाकरे ने यहां तक कहा कि वे कांग्रेस मुक्त भारत के भी समर्थक नहीं हैं। ठाकरे ने कहा कि मैं कांग्रेस फ्री एजेंडे के लिए काम नहीं करता। प्रधानमंत्री को पांच साल और देने होंगे। मैं अयोध्या में एक बार फिर राम मंदिर का दौरा करूंगा अगर राम मंदिर निर्माण का काम तेज नहीं होता है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हर चुनावी रैली और सभाओं में यह बार-बार कहते हैं कि वो कांग्रेस मुक्त भारत चाहते हैं।
ठाकरे का चुनावी ‘मिजाज’
गौरतलब है कि उद्धव ठाकरे का यह बयान उस वक्त सामने आया है, जब एक दिन पहले ही वह भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के नामांकन में गुजरात के गांधीनगर पहुंचे थे। ठाकरे ने यहां कहा था कि भाजपा और शिवसेना के दिल मिल गए हैं। नरेन्द्र मोदी को एक बार फिर से देश का प्रधानमंत्री बनाना है। लेकिन, अब जो ठाकरे ने बयान दिया है इसकी चर्च तेज हो गई है। साथ ही सियासी गलियारों में इसके कई मायने निकाले जा रहे हैं।