लोकसभा: जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस-एनसी के बीच फंसा पेंच, यह सीट गठबंधन में बनी रोड़ा

नई दिल्ली। अगामी लोकसभा चुनाव की बिसात बिछ चुकी है। चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद सभी पार्टियां गठबंधन और उम्मीदवारों की सूची जारी करने में जुटी हैं। वहीं, जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस और नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) के बीच गठबंधन को लेकर एक बार फिर पेंच फंस गया है। जानकारी के मुताबिक, दोनों पार्टियों के बीच अनंतनाग लोकसभा सीट को लेकर पेंस फंसा है।
कांग्रेस और एनसी के बीच फंसा पेंच
दरअसल, कांग्रेस चाहती है कि कश्मीर की अनंतनाग सीट से उसका प्रत्याशी चुनाव लड़े। पार्टी का मानना है कि जम्मू कश्मीर कांग्रेस अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर अनंतनाग से जीत सकते हैं। लेकिन, नेशनल कॉन्फ्रेंस यह सीट अपने पास रखना चाहती है। एनसी कश्मीर की तीनों सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती है। इसके बदले जम्मू की दो और लद्दाख की एक सीट पर वह कांग्रेस को समर्थन देने के लिए तैयार है। इसलिए, लद्दाख सीट को लेकर दोनों पार्टियों के बीच पेंच फंस गया है। एनसी उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला का साफ कहना है कि अगर कांग्रेस को गठबंधन का प्रस्ताव पसंद आता है, तभी दोनों पार्टियां जम्मू और लद्दाख की तीन सीटों को लेकर बातचीत कर सकती हैं।
किस करवट बैठेगी घाटी की राजनीति
इससे पहले नेशनल कॉन्फ्रेंस की एक बैठक हुई, जिसमें पार्टी के सभी नेता की यह राय है कि पार्टी सभी छह सीटों पर चुनाव लड़े। हालांकि, एनसी ने कहा कि बोर्ड ने पार्टी अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला को धर्मनिरपेक्ष ताकतों से गठबंधन पर अंतिम निर्णय लेने के लिए अधिकृत किया है। अब देखना यह है कि घाटी में कांग्रेस और एनसी के बीच गठबंधन फाइनल होता है या फिर पार्टी यहां अकेले चुनाव लड़ती है।