लोकसभा चुनाव: RLSP को झटका, सांसद रामकुमार ने छोड़ी पार्टी, कुशवाहा पर लगाया गंभीर आरोप

नई दिल्ली। देश में सियासी पारा चरम पर है। 11 अप्रैल को पहले चरण के लिए वोट डाले जाएंगे। लेकिन, बिहार में बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। पहले राष्ट्रीय जनता दल (RJD), फिर जनता दल यूनाइटेड (JDU) और अब राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) में हंगामा मच गया है। पार्टी के वरिष्ठ नेता और सांसद रामकुमार शर्मा ने रालोसपा से खुद को अलग कर लिया है। पार्टी से अलग होने के बाद शर्मा ने रालोसपा अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा पर काफी गंभीर आरोप लगाए हैं।
रामकुमार ने RLSP से खुद को किया अलग
रामकुमार ने कहा कि मैंने रालोसपा के एनडीए से अलग होने का विरोध किया था, इस बात से उपेंद्र नाराज थे। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर नीच कहने का आरोप लगाया था। वह चाहते थे कि मैं भी उस आरोप के समर्थन में बयान दूं। लेकिन, जब मैंने ऐसा नहीं किया तो वह नाराज हो गए। इसी वजह से सीतामढ़ी सीट रालोसपा ने नहीं लिया और पार्टी ने मुझे लोकसभा का टिकट नहीं दिया। गौरतलब है कि राजकुमार शर्मा सीतामढ़ी से सांसद हैं। रामकुमार ने कुशवाहा पर आरोप लगाया कि महागठबंधन में पार्टी को पांच सीटें मिली थीं। कुशवाहा ने सीट छोड़ने के लिए महागठबंधन की पार्टियों से पैसे लिए।
कुशवाहा पर टिकट बेचने का आरोप
RLSP सांसद यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि मोतिहारी की सीट को कुशवाहा ने तीन बार बेचा। पहले यहां से चुनाव लड़ाने के नाम पर प्रदीप मिश्रा से पैसे लिए। इसके बाद माधव आनंद से भी टिकट के नाम पर पैसे वसूल लिए। अंत में कुशवाहा ने पैसे लेकर आकाश सिंह को टिकट दे दिया। टिकट पाने तक आकाश रालोसपा के सदस्य भी नहीं थे। इसके अलावा कुछ और सीटों के लिए भी उपेन्द्र कुशवाहा ने पैसे लिए हैं। हालांकि, कुशवाहा की ओर से अभी तक इस मामले में कोई बयान नहीं आया है।