लोकसभा चुनाव 2019: जानें किसको मिलेगी कौन-सी सीट और किसका कटेगा पत्ता!

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान हो चुका है। 11 अप्रैल से शुरू होने वाले आम चुनाव 7 चरणों में होते हुए 19 मई को खत्म होंगे। उसी के साथ EVM में कैद उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला 23 मई को आएगा। लेकिन ये उम्मीदवार कौन होंगे, वे कौन होंगे जिनके दम पर राजनीतिक पार्टियां जीत का स्वाद चखेंगी। इसे लेकर माथापच्ची शुरू हो गई है। सभी पार्टियां मजबूत उम्मीदवारों के चयन में जुटी हुई हैं। वहीं, कई सीटों पर फेरबदल की कवायद भी चल रही है। पार्टी विरोधी लहर को कम करने के लिए जातीय समीकरणों को भी ध्यान में रखा जा रहा है। तो आइए जानते हैं किन अहम सीटों पर कौन से उम्मीदवार उतारे जाने की संभावना है और किसका इस बार पत्ता कटेगा….
फूलपुर से चुनाव लड़ सकती हैं प्रियंका गांधी वाड्रा
सबसे पहले बात गांधी परिवार की बेटी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी वाड्रा की। सक्रिय राजनीति में पूरी तरह उतर चुकीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका यूपी की फूलपूर सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने की संभावना जताई जा रही है। बता दें कि यह वही फूलपुर सीट है जो कभी देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की सीट हुआ करती थी। इसी सीट की बदौलत जवाहर लाल नेहरू और फिर उनकी बहन विजय लक्ष्मी पंडित को लोकसभा जाने का रास्ता मिला था। लेकिन बीते 41 सालों से इस सीट पर कांग्रेस अपना खाता नहीं खोल पाई है। यही वजह है कि कांग्रेस कार्यकर्ता प्रियंका गांधी को इसी सीट से चुनाव लड़वाने की मांग कर रहे हैं। जाहिर तौर पर प्रियंका के इस सीट से चुनाव लड़ने पर कांग्रेस को फायदा पहुंच सकता है।
ओडिशा के पुरी से चुनाव लड़ सकते हैं मोदी!
2014 लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री मोदी ने अपने गढ़ गुजरात के वडोदरा और बाबा विश्वनाथ की नगरी बनारस से लोकसभा चुनाव लड़ा था। इन दोनों सीटों पर पीएम मोदी ने जीत हासिल की थी। लेकिन अपने संसदीय क्षेत्र के तौर पर उन्होंने बनारस को प्राथमिकता दी थी। इसके पीछे की वजह समाजवादी और बहुजन समाज पार्टी जैसे क्षेत्रीय दलों के किले को कमजोर करके बीजेपी को मजबूती देनी थी और मोदी ने ऐसा किया भी। इस बात का अंदाजा यूपी में बनी योगी सरकार से लगाया जा सकता है। अब यही फॉर्मूला बीजेपी ओडिशा और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में आजमा सकती है। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी ओडिशा में अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को पुरी लोकसभा सीट से उतार सकती है। वहीं, यह भी संभावना है कि पीएम इस बार भी दो लोकसभा सीटों से चुनाव लड़ सकते हैं।
आजमगढ़ से लड़गे अखिलेश यादव?
लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के आजमगढ़ से चुनाव लड़ने की बातें समाने आ रही हैं। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि अगर अखिलेश यादव यहां से चुनाव लड़ते हैं तो पूर्वांचल में एसपी को बड़ी मजबूती मिलेगी। बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में मुलायम सिंह ने इस सीट से चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी।
साक्षी महाराज का कटेगा पत्ता?
उत्तर प्रदेश की उन्नाव सीट से लगातार चुनाव लड़ने वाले बीजेपी के सांसद साक्षी महाराज के टिकट को लेकर अभी संशय बना हुआ है। बीजेपी उन्हें वहां से चुनाव लड़ने के लिए टिकट देगी या नहीं इसे लेकर फैसला आना बाकी है। लेकिन ऐसी चर्चा है कि उनका टिकट काटा जा सकता है।
मीनाक्षी लेखी का कट सकता है टिकट , गौतम गंभीर को जगह?
नई दिल्ली सीट से सांसद मीनाक्षी लेखी का बीजेपी टिकट काट सकती है। ऐसी चर्चा है कि नई दिल्ली विधानसभा सीट से बीजेपी गौतम गंभीर को उतारेगी। उसके पीछे की वजह मीनाक्षी लेखी का इस सीट से कम एक्टिव होना है। यही वजह है कि पार्टी विरोधी लहर से बचने के लिए बीजेपी क्रिकेटर गौतम गंभीर पर दांव खेल सकती है।
हेमा की बदलेगी सीट?
सीटों में होने वाले बड़े फेरबदलों में एक बड़ा बदलाव मथुरा में भी देखने को मिल सकता है। मथुरा सांसद हेमा मालिनी की भी सीट बदले जाने की संभावना जताई जा रही है। ऐसी चर्चा है कि फतेहपुर सीकरी सीट से उन्हें उतारा जा सकता है। लेकिन हेमा मालिनी ने स्पष्ट कर दिया है कि वह मथुरा के अलावा कहीं और से चुनाव नहीं लड़ेंगी।
बदली गिरिराज सिंह की सीट?
चर्चा है कि केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह को लेकर बीजेपी इस चुनाव बड़ा फेरबदल कर सकती है। गिरिराज सिंह का नवादा से टिकट कट सकता है और उन्हें बेगूसराय से टिकट मिल सकता है। आपको बता दें कि सामाजिक समीकर्णओं के मुताबिक यह सीट गिरिराज के लिए उतनी सही नहीं दिखती। यहां भूमिहार वोट नवादा की तुलना में कम है। वहीं, सीट बदलने को लेकर गिरिराज सिंह की नाराजगी की भी चर्चा है।