लोकसभा चुनाव में पहली बार होंगी ये खास बातें, 42 दिन में तय होगा देश का सियासी भविष्य

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में आम चुनावों की रणभेरी बज चुकी है। विज्ञान भवन के प्लेनरी हॉल में भारतीय निर्वाचन आयोग के मुख्य आयुक्त सुनील अरोड़ा ने दुनिया के सबसे महंगे चुनावी कार्यक्रम की घोषणा की। लोकसभा चुनाव 7 चरणों में संपन्न कराया जाएगा। पहले चरण का चुनाव 11 अप्रैल को होगा जबकि आखिरी चरण के लिए 19 मई को वोट डाले जाएंगे। 2019 लोकसभा चुनाव को निष्पक्ष और सफलता पूर्वक सम्पन्न कराने के लिए आयोग पहली बार कुछ प्रयोग कर रहा है।
पहली बार 90 करोड़ वोटर करेंगे अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे।
चुनाव आयोग ने पहली बार हेल्प लाइन नंबर जारी की है। 1950 पर वोटर चुनाव संबंधी जानकारी ले सकते हैं।
इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) पर उम्मीदवारों की तस्वीर होगी।
देशभर में 10 लाख से अधिक पोलिंग बूथ बनाए गए हैं, जबकि पिछली बार 9 लाख बूथ थे।
पहली बार डेढ़ करोड़ वोटरों की उम्र 18-19 साल के बीच होगी।
लोकसभा चुनाव में पहली बार हर बूथ पर VVPT मशीनों का इस्तेमाल होगा।
वोटरों के लिए पहचान पत्र के लिए 11 विकल्प होंगे।
मतदाता चुनाव संबंधी अपनी शिकायत मोबाइल एप के जरिए कर सकेंगे।
लोकसभा चुनाव में इस्तेमाल होने वाली सभी EVM मशीनों की ट्रैकिंग के लिए GSP लगाए जाएंगे।
चुनाव प्रचार में पर्यावरण को हानि पहुंचाने वाली सामाग्री का इस्तेमाल नहीं होगा।