लोकसभा चुनाव: गठबंधन को लेकर बसपा ने छुड़ाया ‘हाथ’, देश में ‘साइकिल और हलधर’ को लिया साथ

नई दिल्ली। पिछले छह महीनों से देश में लोकसभा चुनाव को लेकर उथल-पुथल मचा हुआ है। कौन पार्टी किसके साथ चुनाव लड़ेगी?, कौन नेता किस पार्टी में शामिल होगा? और किन-किन पार्टियों के बीच गठबंधन होगा? हालांकि, विगत कुछ दिनों में कई चीजें साफ हो गईं, लेकिन कुछ अभी भी धुंधली हैं। रविवार को चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही अब धुंधली चीजें भी धीरे-धीरे साफ होने लगी हैं। इसी कड़ी में बसपा ने अपना ‘आईना’ साफ करते हुए गठबंधन का चेहरा दिखा दिया है। बसपा सुप्रीमों ने मंगलवार को साफ कहा है कि किसी भी राज्य में कांग्रेस के साथ पार्टी गठबंधन नहीं करेगी। हालांकि, कई राज्यों में बसपा, सपा और अन्य पार्टियों के साथ गठबंधन कर चुकी है और सीटों का बंटवारा भी लगभग हो चुका है।
इन राज्यों में बसपा-सपा का गठबंधन
सबसे पहले बसपा और सपा के बीच यूपी में गठबंधन हुआ। यहां बसपा 38 और सपा 37 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। जबकि, तीन सीटें राष्ट्रीय लोकदल को दी गई हैं। सबसे पहले बसपा ने यूपी में कांग्रेस का पत्ता साफ किया। इसके बाद दोनों पार्टियों ने मध्य प्रदेश और उत्तराखंड में साथ चुनाव लड़ने का फैसला किया। मध्य प्रदेश में सपा बालाघाट, टीकमगढ़ और खजुराहो सीटों पर चुनाव लड़ेगी। यानी गठबंधन के तहत सपा को यहां तीन सीटें मिली हैं। जबकि, बाकी सभी 26 लोकसभा सीटों पर बसपा चुनाव लड़ेगी। वहीं, उत्तराखंड में सपा गढ़वाल (पौड़ी) लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ेगी, जबकि बाकी चार सीटों पर बसपा मैदान में उतरेगी। इसके अलावा छत्तीसगढ़ में बसपा अजीत योगी की पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के साथ गठबंधन कर सकती है। दरअसल, यहां सीट बंटवारे को लेकर अभी पेंच फंसा हुआ है। बसपा यहां जोगी से छह से सात सीटों की डिमांड कर रही है।
 

BSP Chief Mayawati: It has been reiterated once again that Bahujan Samaj Party (BSP) will not have any alliance with Congress party in any state, to contest the upcoming elections. (file pic) pic.twitter.com/JgPzgrED1c— ANI UP (@ANINewsUP) March 12, 2019

हरियाणा में एलएसपी से बसपा का गठबंधन
वहीं, हरियाणा में भी बसपा ने गठबंधन के लिए किसी बड़ी पार्टी या फिर कांग्रेस को मौका नहीं दिया। सबसे पहले बसपा ने आईएनएलडी से यहां गठबंधन किया था। करीब नौ महीने बाद इस गठबंधन को तोड़ते हुए मायावती ने लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी (एलएसपी) से गठबंधन कर लिया। इस गठबंधन के तहत बहुजन समाज पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव में हरियाणा में 8 लोकसभा सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी और 35 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी। जबकि, एलएसपी लोकसभा की दो सीटों और विधानसभा की 55 सीटों पर उम्मीदवार उतारेगी। इन गठबंधनों से साफ है कि बसपा महागठबंध का हिस्सा भी नहीं बनेंगी और कई राज्यों में कांग्रेस की उम्मीदों पर पानी फिर गया। साथ ही बसपा की इस सियासी चाल से महागठबंधन का सपना भी टूटता नजर आ रहा है।