लोकसभा चुनाव: आंध्र प्रदेश में बसपा ने जनसेना पार्टी से किया गठबंधन, सीटे शेयरिंग का फॉर्मूला तय

नई दिल्ली। जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव का समय नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे देश में राजनीतिक गतिविधियां तेज होती जा रही हैं। दल-बदल और गठबंधन चरम पर है। कोई भी पार्टी इस लोकसभा चुनाव में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। इसी कड़ी में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) देश के अलग-अलग राज्यों में लगातार गठबंधन कर रही है। पहले यूपी, फिर हरियाणा, एमपी, उत्तराखंड और अब आंध्र प्रेदश में बसपा ने जनसेना पार्टी से गठबंधन किया है।
 

BSP Chief Mayawati: Jana Sena and BSP will fight together in Andhra Pradesh and Telangana; seats have almost been finalized. pic.twitter.com/t7UbHOw8pn— ANI (@ANI) March 15, 2019

आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में बसपा ने जनसेना पार्टी से किया गठबंधन
बसपा सुप्रीमो मायवाती ने जनसेना पार्टी के अध्यक्ष और साउथ के सुपर स्टार पवन कल्याण से मिलने के बाद इस गठबंधन का ऐलान किया है। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में बसपा और जनसेना पार्टी मिलकर अगामी लोकसभा चुनाव लड़ेगी। दोनों ने कहा शीट शेयरिंग का फॉर्मूला भी तय हो गया है और जल्द ही इसकी घोषणा कर दी जाएगी। वहीं, मीडिया से बात करते हुए जनसेना प्रमुख पवन कल्याण ने कहा कि हम चाहते हैं कि बसपा सुप्रीमो मायावती देशी की प्रधानमंत्री बने। हालांकि, पवन कल्याण की इच्छा पूरी होती है या नहीं यह तो आने वाला समय ही बताएगा। लेकिन, बसपा के इस गठबंधन से दक्षिण भारत में सियासी हलचल तेज हो गई है।
 

Jana Sena Chief Pawan Kalyan after alliance with BSP: We would like to see Behen ji Mayawati ji as the Prime Minister of our country, this is our wish and our ardent desire. pic.twitter.com/HtF17cfi4T— ANI (@ANI) March 15, 2019

कई राज्यों में अलग-अलग पार्टियों से गठबंधन कर चुकी है बसपा
गौरतलब है कि बसपा ने उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड में समाजवादी पार्टी से गठबंधन किया है। वहीं, हरियाणा में राजकुमार सैनी की पार्टी लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी से गठबंधन किया है। इसके अलावा छत्तीसगढ़ में बसपा अजीत जोगी की पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ से गठबंधन करने की तैयारी में है। ऐसा माना जा रहा है कि शीट शेयरिंग को लेकर दोनों के बीच पेंच फंसा हुआ है। अब देखना यह है कि जिस तरह से बसपा लगातार गठबंधन कर रही है, उसका असर लोकसभा चुनाव में किस तरह पड़ता है।