राहुल के नीति आयोग भंग वाले बयान पर नकवी का पलटवार, कहा- सत्ता चली गई पर गुरूर नहीं गया

नई दिल्ली। भाजपा नेता मुख्तार अब्बस नकवी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नीति आयोग को लेकर दिए बयान पर पलटवार किया है। नकवी ने शनिवार को कहा कि राहुल का यह बयान संवैधानिक संस्थाओं का ‘आपराधिक दुरूपयोग’करने वालों के सामंती गुरूर का परिचायक है। चुनाव में जनता उन्हें सबक सिखाएगी। बता दें कि यह बातें नवकी ने मीडिया से बात करने के दौरान कहीं।
यह भी पढ़ें-पुलवामा में फिर CRPF जवानों पर आतंकी हमला, एक घायल, चार घंटों के अंदर दूसरा धमाका
नवकी ने आरोप लगाते हुए कहा कि जब कांग्रेस सत्ता में आई थी तब संवैधानिक संस्थाओं का आपराधिक दुरुपयोग करती थी। वहीं, अब विपक्ष में होकर इन संस्थानों को धमकाने और बदनाम करने की साजिश कर रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के हाथ से सत्ता चली गई लेकिन गुरूर नहीं गया। इन्हें अब जनता चुनाव में सबक सिखाएगी।
बीजेपी नेता ने कहा कि पिछले पांच सालों से कांग्रेस चुनाव आयोग, नीति आयोग, सीवीसी और अन्य संवैधानिक संस्थाओं को बदनाम करने की साजिश कर रही है। वहीं, उन्होंने कहा कि राहुल गांधी सत्ता में आने के लिए तड़प रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष को लगता है कि सत्ता उनके परिवार का जन्मसिद्ध अधिकार है।
यह भी पढ़ें-मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: पॉक्सो एक्ट के तहत सभी पर आरोप तय, तीन अप्रैल से ट्रायल शुरू
क्या कहा था राहुला ने
गौरतलब है कि राहुल गांधी ने नीति आयोग को लेकर एक ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा, ‘यदि 2019 में कांग्रेस सत्ता में आई तो नीति आयोग को खत्म कर फिर से योजना आयोग का गठन करेंगे। इसे फिर से बहाल किया जाएगा जिसमें कुछ चुनिंदा अर्थशास्त्रियों को रखा जाएगा। इसके अलावा इसमें 100 से कम स्टाफ रखे जाएंगे। राहुल गांधी ने नीति आयोग की आलोचना करते हुए कहा कि इस संस्था के पास पीएम मोदी के प्रचार के लिए झूठे आंकड़े पेश करने के अलावा कोई दूसरा काम नहीं है।’