राज्यपाल कल्याण सिंह को झटका, आचार संहिता मामले में राष्ट्रपति ने गृह मंत्रालय को भेजी फाइल

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से पहले राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। गुरुवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गृह मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट दे दी है। उन्होंने ‘मोदी को फिर से केंद्र में प्रधानमंत्री बनना चाहिए’ वाले बयान को निर्वाचन आयोग ने आदर्श चुनाव आचार संहिता उल्लंघन मानते हुए दोषी माना था।
आयोग ने माना था आचार संहिता उल्लंघन का दोषी
कल्याण सिंह संवैधानिक पद पर हैं, लिहाजा केंद्रीय चुनाव आयोग ने उनपर कार्रवाई के लिए राष्ट्रपति को पत्र लिखकर सूचित किया था। क्योंकि संवैधानिक पदों से जुड़े इस मामले में अंतिम फैसला राष्‍ट्रपति ही कर सकते हैं।
जनरल वीके सिंह बोले- भारतीय सेना को ‘मोदी जी की सेना’ कहना देशद्रोह

The President forwards report over Rajasthan Guv Kalyan Singh to Home Ministry. EC had written to the Pres against him for Violation of Model code of conduct .He had said ‘We’re BJP workers&want BJP to emerge victorious.We want that once again Modi ji should become PM on 23rd May’ pic.twitter.com/ugCJfXhPU6— ANI (@ANI) April 4, 2019

राज्यपाल कल्याण सिंह ने क्या कहा था?
बता दें कि 23 मार्च को अपने अलीगढ़ दौरे के दौरान मीडिया से बात करते हुए राज्यपाल कल्याण सिंह का एक वीडियो वायरल हुआ था। इसमें वे कहते दिख रहे हैं कि.. हम सभी लोग भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता हैं। इस नाते से हम जरूर चाहेंगे कि बीजेपी विजयी हो। हम चाहेंगे कि एक बार फिर से केंद्र में 23 मई को मोदी जी ही प्रधानमंत्री बनें। मोदी जी का प्रधानमंत्री बनना देश के लिए आवश्यक है। समाज के लिए आवश्यक है। आपकी भावनाओं को देखते हुए इससे ज्यादा और कुछ नहीं कहना चाहता।
आयोग ने राष्ट्रपति को भेजी थी रिपोर्ट
कल्याण सिंह के इस बयान पर सियासत गरम हो गई और मामला चुनाव आयोग तक पहुंचा था। इसके बाद आयोग ने उनके भाषण की जांच में पाया कि सिंह ने आचार संहिता का उल्लंघन किया है और अपनी रिपोर्ट राष्ट्रपति को सौंप दी।