रफाल को लेकर राहुल गांधी का PM मोदी पर हमला, डिबेट करने की दी खुली चुनौती

नई दिल्ली। रफाल डील मामले में केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट से लगे झटके बाद अब कांग्रेस भी सत्तारूढ़ दल भाजपा पर हमलावर हो गई है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने कहा कि देश की शीर्ष अदालत ने भी यह मान लिया है कि चौकीदार ने ही चोरी की है। उन्होंने कहा कि अदालत ने माना है कि रफाल मामले में भ्रष्टाचार हुआ है। आपको बता कि सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को रफाल मामले पर सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार द्वारा दर्ज की गई प्रारंभिक आपत्तियों को सर्वसम्मति से खारिज कर दिया। इसके साथ ही रफाल मामले में पुनर्विचार याचिका पर अब योग्यता के आधार पर सुनवाई होगी और अदालत इससे संबंधित प्रकाशित दस्तावेजों को देखेगी।
अल्पेश ठाकोर ने की कांग्रेस छोड़ने की घोषणा, गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला भाजपा में शामिल
 

This is a victory for India! We welcome the Supreme Court’s judgement to review the Rafale petition. Satyamev Jayate! ??#RafaleDeal #ChowkidarChorHai https://t.co/DQMLcdYrr5— Congress (@INCIndia) April 10, 2019

सुप्रीम कोर्ट से केन्द्र सरकार को झटका, रफाल डील मामले में फिर होगी सुनवाई
वहीं राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को डिबेट करने की खुली चुनौती दी है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री उनसे बस 15 मिनट डिबेट कर लें। आपको बता दें कि राहुल गांधी ने बुधवार को उत्तर प्रदेश की संसदीय सीट अमेठी से नामांकन दाखिल किया। इस दौरान उन्होंने भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। गौरतलब है कि कोर्ट ने केंद्र सरकार की उन प्राथमिक आपत्तियों को खारिज कर दिया जिसमें उसने उन दस्तावेजों पर विशेषाधिकार का दावा किया था जो याचिकाकर्ताओं ने अदालत के दिसंबर 2018 के निर्णय पर पुनर्विचार करने की मांग के साथ पेश किए गए थे।
गुजरात: कांग्रेस नेता ने पीएम मोदी पर की विवादित टिप्पणी, भाजपा हुई हमलवार
 अदालत ने पहले दिए गए अपने निर्णय में 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद के मामले में सरकार को क्लीन चिट दे दी थी। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने अपने आदेश में कहा कि याचिकाकर्ताओं- पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा, पत्रकार से नेता बने अरुण शौरी और कार्यकर्ता-वकील प्रशांत भूषण द्वारा तीन दस्तावेजों के उपयोग पर केंद्र की प्रारंभिक आपत्तियों को खारिज कर दिया गया है।