योगी के बयान पर बीजेपी नेता ही एकमत नहीं

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ‘मोदी जी की सेना’ वाले बयान पर घमासान जारी है। निर्वाचन आयोग के अलावा विपक्ष समेत कई पूर्व सैन्य अधिकारियों ने सख्त आपत्ति जताई है। अब केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह ने इस तरह के बयान ‘देशद्रोह’ बताया है, हालांकि उन्होंने योगी का नाम लेने से परहेज किया है।
भारत की सेनाएं भारत देश की हैं: सिंह
एक न्यूज वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में वीके सिंह ने कहा कि ‘भाजपा में चुनाव प्रचार में सब लोग खुद को सेना भी कहते हैं। लेकिन ध्यान देने वाली बात ये है कि हम किस सेना की बात कर रहे हैं? क्या हम भारतीय सेना के बारे में बात कर रहे हैं, या फिर किसी राजनीतिक कार्यकर्ता की बात कर रहे हैं? फिलहाल मुझे तो नहीं पता कि यहां क्या संदर्भ है। लेकिन अगर कोई ये कहता है कि… भारत की सेना मोदी जी की सेना है तो वो सिर्फ गलत ही नहीं, वो देशद्रोही भी है। भारत की सेनाएं भारत देश की हैं, ये किसी राजनीतिक दल की नहीं हैं।’
कांग्रेस के घोषणा पत्र से नाखुश सोनिया गांधी, जारी होने से पहले तक चाहती थीं बदलाव!
योगी ने क्या कहा था?
बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने 31 मार्च को गाजियाबाद की चुनावी जनसभा में कहा, ‘कांग्रेस के लोग आतंकवादियों को बिरयानी खिलाते थे और मोदी जी की सेना उन्हें सिर्फ गोली और गोला देती है। यह अंतर है। कांग्रेस के लोग मसूद अजहर जैसे आतंकियों के लिए जी का इस्तेमाल करते हैं, मगर प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भाजपा सरकार आतंकियों के कैंप पर हमले कर उनका कमर तोड़ती है।’
आयोग ने लिया संज्ञान
योगी के बयान में भारतीय सेना को ‘मोदी की सेना’ बताने पर निर्वाचन आयोग संज्ञान लेते हुए गाजियाबाद से जिला अधिकारी से रिपोर्ट तलब की है।