मोदी सरकार से ओवैसी का सवाल, मसूद अजहर के लिए चीन से क्या समझौता किया

नई दिल्ली। जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर ( Masood Azhar ) पर लगी वैश्विक पाबंदी से एक ओर मोदी सरकार खुश है, तो दूसरी विपक्ष इसके समय पर सवाल उठा रहा है। मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ के बाद अब AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ( Asaduddin Owaisi ) को भी इससे सियासत की बू आ रही है। ओवैसी ने कहा जिस तरह के यूएन के फैसले को बहुत बड़ी कामयाबी बताई जा रही है, वैसा कुछ नहीं है।
मसूद अजहर पर वीटो हटाने के लिए चीन के साथ कोई समझौता नहीं हुआ: भारत

A Owaisi:China se aapne kya compromise kiya?2008 mein Hafiz Saeed ko blacklist kiya gaya, kya vo public meeting nahi karta? Kya uski party election nahi ladi? Yakeenan blacklist hua hai magar isko agar aap claim kar rahe hain bhot badi kamyabi hai, ye kamyabi nahi hai abhi. pic.twitter.com/7XtQekkvk4— ANI (@ANI) May 2, 2019

ओवैसी ने उठाए सवाल
असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि चीन से आपने क्या समझौता किया है? 2008 में हाफिज सईद को ब्लैक लिस्ट किया गया। क्या वो पब्लिक मीटिंग नहीं करता है? क्या उसकी पार्टी इलेक्शन नहीं लड़ रही? यकीनन ब्लैक लिस्ट हुआ है मगर इसको अगर आप क्लेम कर रहे हैं कि बहुत बड़ी कामयाबी है, तो ये कामयाबी नहीं है अभी।
श्रीनगर: 29 साल बाद लौटे कश्मीरी पंडित, कहा- मुसलमानों ने नायक की तरह स्वागत किया
विदेश मंत्रालय ने दी सफाई
वहीं ओवैसी से पहले विदेश मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि मसूद के बदले चीन से किसी तरह की खरीद फरोख्त नहीं हुआ है। MEA रवीश कुमार ने कहा कि हम आतंकवाद और देश की सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर किसी भी देश के साथ मोलभाव नहीं करते। चीन द्वारा ‘वीटो’ वापस लेने के लिए उसके साथ किसी प्रकार की बातचीत नहीं हुई है।
Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..