मुंबई की विशेष अदालत में NIA ने कहा- ‘प्रज्ञा की उम्‍मीदवारी का मसला हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं आता’

नई दिल्‍ली। मालेगांव बम विस्‍फोट मामले में एक पीडि़त की शिकायत पर जवाब दाखिल करते हुए एनआईए के जांच अधिकारी ने एनआईए विशेष अदालत मुंबई को बताया कि प्रज्ञा सिंह ठाकुर का भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़ने का मसला हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं आता। उनकेे चुनाव लड़ने का एनआईए केे केेेसे कोई लेना देना नहीं है। यह मसला चुनाव आयोग से जुड़ा है।
सीएम कमलनाथ के भतीजे पर 1350 करोड़ की टैक्स चोरी का आरोप, पड़ी रेड
प्रज्ञा का चुनाव लड़ना गैर कानूनी
साध्वी प्रज्ञा के चुनाव लड़ने के खिलाफ एनआईए कोर्ट में आपत्ति दर्ज कराने वाले एक पीड़ित के पिता ने कहा है कि उन्हें अभी एनआईए कोर्ट से बरी नहीं किया गया है। पीड़ित ने प्रज्ञा की उम्मीदवारी पर सवाल उठाते हुए कहा कि साध्वी प्रज्ञा ने अपनी जमानत में खराब स्वास्थ्य को जमानत के लिए एक अहम आधार बनाया था। ऐसे में उनका लोकसभा चुनाव लड़ना आपत्तिजनक है। ऐसे में मालेगांव बम धमाके की मुख्य आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के संसद पहुंचने के सपने पर विराम लग सकता है। पीडि़त की ओर से उसके पिता ने एनआईए की विशेष अदालत में याचिका दाखिल कर साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर की उम्‍मीदवारी पर रोक लगाने की मांग की थी।
 

NIA also files its reply in special NIA Court on the application filed by one of the victims of 2008 Malegaon blast case seeking to bar Pragya Singh Thakur from contesting elections. NIA in its reply states that ‘the matter is related to election &EC, NIA has no Jurisdiction .’ https://t.co/WlcXTWFdRm— ANI (@ANI) April 23, 2019

प्रज्ञा का चुनाव लड़ना गैर कानूनी
हाल ही में भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से लोकसभा उम्मीदवार घोषित किया था। भाजपा ने उन्‍हें भोपाल में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ मैदान में उतारा है। भोपाल से उम्‍मीदवार बनाए जाने के बाद प्रज्ञा ठाकुर ने एक कार्यकर्ता सम्मेलन में जेल की यातनाओं को याद कर रो पड़ीं थीं। उन्होंने कार्यकर्ताओं को बताया था कि जेल में किस तरह से उन्हें टॉर्चर किया जाता था। इस दौरान कई बार उनकी आंखें भर आईं।
CM कमलनाथ के भतीजे की कंपनी पर आईटी रेड, पकड़ी गई 1,350 करोड़ की कर चोरी
क्‍या है मालेगांव विस्‍फोट मामला
बता दें कि उत्तर महाराष्ट्र के मालेगांव में 29 सितंबर, 2008 को एक मस्जिद के पास एक मोटरसाइकिल पर बंधे विस्फोटक सामग्री में विस्फोट होने से 7 व्यक्तियों की मौत हो गई थी। इस घटना में 100 से अधिक लोग घायल हो गए थे। इस मामले में कर्नल पुरोहित के अलावा अन्य आरोपियों में प्रज्ञा सिंह ठाकुर, मेजर (सेवानिवृत्त) रमेश उपाध्याय, समीर कुलकर्णी, अजय राहिरकर, सुधाकर द्विवेदी और सुधाकर चतुर्वेदी के नाम शामिल हैं।
  https://play.google.com/store/apps/details?id=com.vserv.rajasthanpatrika Indian Politics से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..Lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download patrika Hindi News App.