मसूद पर कांग्रेस के बयान पर अरुण जेटली का पलटवार, कहा- UPA के दौरान भी चीन ने भारत के साथ यही किया था

नई दिल्ली। चीन की वजह से आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में एक बार फिर नाकामी मिली है। चीन ने चौथी बार वीटो पावर का इस्तेमाल कर मजूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित होने से रोक दिया, जिसके बाद इस मुद्दे पर राजनीतिक शुरू हो गई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसे मोदी सरकार की बड़ी नाकामी बताया है, जिस पर केंद्रीय मंत्री अरूण जेलटी ने बड़ा हमला बोला है। जेटली ने कहा कि यूपीए के कार्यकाल के दौरान भी चीन ने भारत के साथ यही किया था।
यह भी पढ़ें-ममता बनर्जी को झटका, विधायक अर्जुन सिंह भाजपा में शामिल
क्या कहा जेटली ने….
एक मीडिया हाउस को दिए इंटरव्यू में अरुण जेटली ने कांग्रेस की ओर से लगाए गए सभी आरोपों को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि मजूद अजहर पर चीन ने ऐसा पहली बार नहीं किया। यह उसका पुराना स्टैंड है। मैं इस में भारत की डिप्लोमैसी को बहुत सफल मानता हूं। उन्होंने कहा कि इसे सफल इस लिए कहा जा सकता है कि क्योंकि वहां एक भी ऐसा देश नहीं था जिसने कहा हो कि आपने एलओसी और अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पार करके गलत किया।
कैंद्रीय मंत्री ने कहा कि मैं इसे भारत की सबसे बड़ी सफलता मानता हूं, जब पाकिस्तान ने आईओसी से कहा कि अगर आप भारत को बुलाएंगे तो हम नहीं आएंगे। लेकिन तब भी इस्लामिक देशों ने भारत को बूलाया और पाकिस्तान नहीं आया। वहीं, उन्होंने कहा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद चीन ने जो किया वह उसका पुराना स्टैंड था। यूपीए की सरकार के समय भी चीन का यहीं स्टैंड था और अब हमारी सरकार के दौरान भी यही है।
यह भी पढ़ें-महाराष्ट्र: कांग्रेस नेता राधाकृष्ण पाटील का बयान- एनसीपी के लिए नहीं करेंगे प्रचार, बेटा हुआ भाजपा में शामिल
क्या है मामला…
आपको बाता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चीन ने एक बार फिर से जैश सरगना मसूद अजहर का का बचाव किया। चीन ने फिर से वीटो पावर का इस्तेमाल करते हुए मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचा लिया। चीन के इस रवैये से भारत को बड़ा झटका लगा है। वहीं, कांग्रेस ने सुरक्षा परिषद में भारत की नाकामयाबी का ठीकरा पीएम मोदी के सिर फोड़ा है।