मसूद अजहर की रिहाई को लेकर हमलावर हुई कांग्रेस, भाजपा को ठहराया जिम्मेदार

नई दिल्ली। कांग्रेस ने मंगलवार को लगभग 20 साल पहले जैश आतंकी मसूद अजहर को छोड़ने को लेकर भाजपा पर हमला बोला। कांग्रेस ने एनएसए अजीत डोभाल के एक साक्षात्कार का हवाला दिया, जिसमें उन्होंने कहा था कि 1999 में इंडियन एयरलाइंस के एक विमान का अपहरण कर अफगानिस्तान के कंधार ले जाने के बाद मसूद अजहर को रिहा किए जाने के लिए भाजपा नेतृत्व वाली सरकार जिम्मेदार थी। आपको बता दें कि इससे एक दिन पहले भाजपा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा जैश-ए-मोहम्मद सरगना को ‘मसूद अजहर जी’ बुलाने को लेकर कांग्रेस पर कटाक्ष किया था।
महाराष्ट्र: चुनाव से पहले कांग्रेस को झटका, नेता प्रतिपक्ष के बेटे सुजय भाजपा में शामिल
 

“मसूद अज़हर को रिहा करना एक राजनैतिक फैसला था” : NSA श्री अजित डोभाल।सवाल: यह किसका राजनैतिक फ़ैसला था?उत्तर: भाजपा सरकार का।तो क्या अब मोदी जी, @rsprasad इस राष्ट्र विरोधी फ़ैसले की जुम्मेवारी लेंगे?#BJPLovesTerrorists 1/3 pic.twitter.com/ohREPBKSr6— Randeep Singh Surjewala (@rssurjewala) March 12, 2019

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि मोदी सरकार के एनएसए अजील डोभाल ने लोगों को इसकी जानकारी दी और भाजपा सरकार को आतंकवादी मसूद अजहर के रिहाई का दोषी बताया था। डोभाल ने कहा था कि मसूद अजहर की रिहाई एक राजनीतिक फैसला था। सुरजेवाला ने कहा कि क्या अब पीएम और रवि शंकर प्रसाद राष्ट्र विरोधी कृत्य को स्वीकार करेंगे? कांग्रेस नेता ने दावा किया कि डोभाल ने अपने इंटरव्यू में आतंकवाद पर कांग्रेस की अगुवाई वाले संप्रग की नीति को सलाम किया था।
महाराष्ट्र: चुनाव से पहले कांग्रेस को झटका, प्रकाश आंबेडकर ने किया अकेले लड़ने का ऐलान

मोदीजी के NSA, श्री अजित डोभाल ने उग्रवादी मसूद अजहर को विस्फोटक व बंदूक़ चलाने की जानकारी भी न होने का दिया ‘क्लीन चिट सर्टिफ़िकेट’-1 मसूद को IED बम बनाना भी नहीं आता2 मसूद को निशाना लगाना नहीं आता3 अज़हर को रिहा करने के बाद टूरिज्म में 200% की वृद्धि#BJPLovesTerrorists2/3 pic.twitter.com/u0Vyn8ptja— Randeep Singh Surjewala (@rssurjewala) March 12, 2019

कांग्रेस से गठबंधन नहीं करेगी वीबीए, महाराष्ट्र की सभी सीटो पर अकेले चुनाव लड़ेगी
सुरजेवाला ने यह भी कहा कि संप्रग ने विमान हाईजैक पर एक स्पष्ट स्टैंड लिया था, लेकिन भाजपा सरकार ने इस तरह की हिम्मत क्यों नहीं दिखाई?