बिहार में चढ़ा सियासी पारा, जेडीयू ने मीसा भारती की तुलना शूपर्णखा से की

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के बीच नेताओं की जुबानी जंग अब चरम पर पहुंच गई है। दलों पर आरोप-प्रत्यारोप के बाद अब व्यक्तिगत रूप से भी टिप्पणियां लगातार बढ़ रही है। इसी कड़ी में ताजा मामला बिहार से सामने आया है। जहां जेडीयू ने आरजेडी की नेता और लोकसभा चुनाव लड़ रही लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती पर निशाना साधा है। जेडीयू ने मीसा भारती की तुलना शूपर्णखा से कर डाली है। जेडीयू के इस बयान के बाद बिहार में सियासी पारा और चढ़ गया है।
पाटलिपुत्र संसदीय सीट से प्रत्‍याशी मीसा भारती को बिहार की राजनीति में इन दिनों घमासान मचा हुआ है। कभी सहयोगी पार्टी रही जेडीयू ने लालू की बेटी पर जमकर हमला बोला है। जदयू के प्रवक्‍ता संजय सिंह ने मीसा को लेकर विवादित बयान दे डाला है, जिससे सियासी सरगर्मी और बढ़ गई है। सिंह ने मीसा की तुलना रावण की बहन शूपर्णखा से की है।
तेजस्वी पर बयान के बाद शुरू हुआ बवाल दरअसल मीसा भारती ने सोमवार को एक सभा में कहा था कि वैसे तो उनके लिए दोनों भाई एक समान हैं। लेकिन जहां तक बात लालू यादव के उत्तराधिकारी की है तो उसके लिए तेजस्वी यादव ज्यादा फिट है। मीसा के इसी बयान के बाद जेडीयू की ओर से प्रतिक्रिया आई और संजयसिंह ने कहा कि लालू परिवार में मीसा भारती का रोल शूपर्णखा का है जो भाईयो को लड़ाने का काम करती है।
आपको बता दें कि मीसा के बयान के पहले लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने भी बयान दिया था और खुद को दूसरा लालू बताया था। हालांकि तेजप्रताप के इस बयान के बाद उन्हीं की पार्टी में लोगों में असंतोष देखने को मिला था। यही नहीं दानापुर में तो तेजप्रताप के नाम और फोटो पोस्टरों से गायब दिखे थे। इसके बाद तेजप्रताप ने पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं को लताड़ भी लगाई थी।
महागठबंधन का पलटवार, माफी मांगे जदयूजदयू प्रवक्‍ता संजय सिंह के विवादित बयान के बाद महागठबंधन के नेताओं ने जमकर पलटवार किया है। राजद के विजय प्रकाश ने कहा कि राजद में सीता व राधा पैदा लेती हैं, न कि शूपर्णखा। दरअसल, जदयू ही राक्षसी समाज है। वहीं हिंदुस्‍तानी अवाम मोर्चा सुप्रीमो व पूर्व मुख्‍यमंत्री जीतनराम मांझी ने कहा कि किसी महिला के बारे में ऐसा कहना पूरे महिला समाज का अपमान है। इसके लिए जदयू को माफी मांगनी चाहिए।