बिहार महागठबंधन को एक और बड़ा झटका, पूर्व केन्द्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी ने RJD से दिया इस्तीफा

नई दिल्ली। 18 अप्रैल को लोकसभा चुनाव (Loksabha Election) के दूसरे चरण के लिए वोट डाले जाएंगे। धुंआधार प्रचार-प्रचार जारी है और मंगलवार शाम को आचार संहिता लागू हो जाएगा। लेकिन, गठबंधन और दल-बदल का खेल अब भी जारी है। वहीं, बिहार महागठबंधन में बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शकील अहमद ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। अब राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के कद्दावर नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी ने पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है।
RJD को बड़ा झटका
जानकारी के मुताबिक, पूर्व केन्द्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी ने मंगलवार को आरजेडी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है। कहा जा रहा है कि वह मधुबनी लोकसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे और 18 अप्रैल को अपना नामांकन भी दाखिल करेंगे। दरभंगा में मीडीय से बात करते हुए अली अशरफ ने इस्तीफे की घोषणा की। उन्होंने कहा कि मैंने पार्टी को पहले ही बता दिया था, लेकिन जवाब कुछ नहीं मिला। लिहाजा, अब मैं निर्दलीय चुनाव लड़ूंगा। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि मैं पार्टी का ईमानदार सिपाही हूं और मैं नहीं चाहता कि मैं राजद को छोड़ूं। लेकिन पार्टी की तरफ से इस तरह का बर्ताव मुझे दुखी कर रहा है।
निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे पूर्व केन्द्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी
दरअसल, महागठबंधन में सीट बंटवार के तहत मधुबनी लोकसभा सीट विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के खाते में चली गई है। वहीं, दरभंगा लोकसभा सीट से आरजेडी ने अब्दुल बारी सिद्दीकी को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। इसके कारण कई नेता नाराज चल रहे हैं। कांग्रेस ने शकील अहमद का टिकट काट दिया तो आरजेडी ने अली अशरफ फातमी को साइड लाइन कर दिया है। लिहाजा, दोनों नेता निर्दलीय चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो गए हैं।