बालाकोट स्ट्राइक: विपक्ष के बयान पर दिलीप घोष का तंज, बोले- देश को इमरान खान से ज्यादा ममता बनर्जी से है खतरा

नई दिल्ली। पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना की कार्रवाई के बाद जहां पाक सरकार और सेना दहशत में है, वहीं भारत में इसको लेकर अब राजनीति भी शुरु हो गई है। दरअसल एयर स्ट्राइक को लेकर कुछ राजनीतिक दल सरकार से सबूत मांग रहे हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सबसे पहले बालाकोट स्ट्राइक पर संदेह जताया था और सबूत मांगे थे। अब ममता के बयान को लेकर पश्चिम बंगाल के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने प्रतिक्रिया दी है। घोष ने पलटवार करते हुए कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से ज्यादा ममता बनर्जी देश को नुकसान पहुंचा सकती हैं। उन्होंने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि जब पूरा देश पुलवामा हमले का बदला लेने के लिए पाकिस्तान पर ठोस कार्रवाई करने की बात कर रहा है, वहीं कुछ नेता बालाकोट स्ट्राइक पर ही सवाल खड़े कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी, अरविंद केजरीवाल, दिगविजय सिंह जैसे नेता इस तरह के बयान देकर पाकिस्तान का काम आसान कर रहे हैं।
बालाकोट स्ट्राइक के बाद दहशत में पाकिस्तान की वायुसेना, अफसरों को अलर्ट रहने के निर्देश
विपक्षी दलों के ऐसे बयानों से सेना का मनोबल गिर जाएगा: घोष
बता दें कि दिलीप घोष ने आगे कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि संकट के समय में देश को एकजूट रहना चाहिए, लेकिन विपक्ष मारे गए आतंकियों की संख्या पूछ रहे हैं। उन्होंने कहा- यही कारण है कि ये सभी नेता पाकिस्तान में काफी लोकप्रिय हैं। घोष ने कहा- एक समय में लालू प्रसाद यादव भी पाकिस्तान में काफी लोकप्रिय थे, लेकिन अब उनका किया हाल है हम सबको पता है। आज ऐसा लगता है कि भारत को नुकसान पहुंचाने के लिए इमरान खान की जरुरत ही नहीं है, क्योंकि ममता बनर्जी अकेले ही काफी हैं। तंज कसते हुए कहा- तृणमूल कांग्रेस जैसी पार्टियां ये काम कर रही हैं, इसलिए आतंकी संगठन सिमी, जमात-उल-मुजाहिद्दीन या फिर अलकायदा की क्या जरुरत है। दिलीप घोष ने ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए पूछा कि आखिर जब नंदीग्राम और छोटो अंगरिया में नरसंहार हुआ था तब किस आधार पर यह बताया था कि सैंकड़ों लोग मारे गए हैं? आखिर यह संख्या उन्हें किसने बताई थी? मारे गए लोगों की संख्या किसने गिनती की थी? केवल राजनीतिक फायदे के लिए ऐसे बयान दे रही हैं। उन्होंने कहा कि विपक्ष के नेताओं के ऐसे बयानों से सेना का मनोबल गिर जाएगा। हम सबको संयम बरतना चाहिए और इस तरह के बयानों से परहेज करना चाहिए।
 
Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.