बंगाल में पुलिस के आला अधिकारियों का तबादला पक्षपातपूर्ण, हटाना है तो मुझे हटाओ : ममता

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को कहा कि कोलकाता पुलिस आयुक्त समेत प्रदेश के चार आईपीएस अधिकारियों का तबादला करने और उन्हें चुनाव में ड्यूटी से अलग रखने का निर्वाचन आयोग का फैसला काफी मनमाना, अभिप्रेरित और पक्षपातपूर्ण है। बनर्जी ने कहा कि घटनाक्रमों से प्रदेश में स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान कराने को लेकर आयोग की कार्यप्रणाली पर गंभीर संदेह पैदा होता है। ममता बनर्जी ने कहा कि हटाना है तो मुझे हटाओ।
ममता ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर जताई नाराजगी
बंगाल की मुख्यमंत्री बनर्जी ने चुनाव आयोग को लिखे एक पत्र में कहा, “आयोग का फैसला काफी मनमाना, अभिप्रेरित और पक्षपातपूर्ण है। हमारे पास यह मानने का कारण है कि आयोग का फैसला केंद्र में सत्ताधारी पार्टी यानी भाजपा के इशारे पर लिया गया है।”उन्होंने कहा, “घटनाक्रमों से गंभीर संदेह पैदा होता है कि क्या आयोग स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव कराने की अपनी संवधानिक अनिवार्यता के अनुसार काम कर रहा है या केंद्र की सत्ताधारी पार्टी भाजपा को खुश करने के लिए कर रहा है।”चुनाव आयोग ने शुक्रवार को कोलकाता पुलिस आयुक्त अनुज शर्मा, बिधनगर में उनके समकक्ष ज्ञानवंत सिंह और बीरभूमि के पुलिस अधीक्षक श्याम सिंह और डायमंड हारबर के पुलिस अधीक्षक पी. एस. सेल्वामुरुगन को हटा दिया।