फिर साथ आए ममता, चंद्रबाबू और केजरीवाल, कहा- मिलकर मोदी को हराना होगा

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी के खिलाफ तीन राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने एकबार फिर हाथ मिलाया है। रविवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के सीएम एन. चंद्रबाबू नायडू और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने विशाखापत्तनम में एक रैली का आयोजन किया।
मोदी का कांग्रेस पर तंज, देश की जनता को राजा महाराजा नहीं चौकीदार चाहिए
तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्षी दलों से कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार को केंद्र की सत्ता से हटाने के लिए छोटे-छोटे मतभेदों को दरकिनार कर हाथ मिलाना होगा। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के वक्त पीएम मोदी ने कहा था कि इससे आतंकवाद खत्म होगा। क्या आतंकवाद खत्म हुआ? आज देश में सबसे ज्यादा आतंकवाद है। हमको ऐसा झूठ बोलने वाला पीएम नहीं चाहिए। हमको दंगा नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं लोगों के गठबंधन के बारे में हमेशा आशावादी रही हूं। देश में एक निरंकुश सरकार चल रही है। यहां भारी असहिष्णुता है और लोगों को अभिव्यक्ति की आजादी नहीं है। लोकतंत्र खतरे में है।
BSF से बर्खास्त तेज बहादुर का PM मोदी पर हमला-‘ असली चौकीदार vs नकली चौकीदार होगा मुकाबला’
दिल्ली के सीएम और AAP के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने मोदी-शाह की जोड़ी पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि इन दोनों ने देश में भाईचार खत्म कर दिया। अगर हिंदुस्तान को बचाना है तो ये काम सिर्फ आम लोग ही कर सकते हैं। इसके साथ उन्हें केंद्र पर दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं देने पर भी जमकर कोसा। ट्विटर पर भी उन्होंने लिखा कि दिल्ली का सम्मान अधूरा, पूर्ण राज्य से होगा पूरा अकेली ‘आप’ दिल्ली वालों के सम्मान और अधिकारों की लड़ाई लड़ रही है। दिल्ली के लोगों के संघर्ष को आज पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश के लोगों का भी साथ मिला। ममता दीदी और चंद्रा बाबू जी ने ऐलान किया कि वे दिल्ली को पूर्ण राज्य बनवा कर रहेंगे। तेलुगू देशम पार्टी (TDP) चीफ चंद्रबाबू नायडू ने भी कहा कि देश को बचाने के लिए बीजेपी जैसी तोड़ने वाली शक्तियों का बहिष्कार करना होगा।