फिर उजागर हुई लालू के परिवार की कलह, राजद की अहम बैठक से गायब रहे तेज प्रताप

नई दिल्ली। बिहार के पूर्व सीएम और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के परिवार में चल रही उठापटक संभलने के नाम नहीं ले रही है। आलम यह है कि पत्नी से तलाक की याचिका के बाद लालू के बड़े बेटे परिवार और पार्टी में तेज प्रताप यादव लगातार बैकफुट पर बने हुए हैं। दरअसल, शनिवार को पटना में कई घंटों तक चली राजद की बैठक से तेज प्रताप यादव गायब रहे। चुनाव से पूर्व हुई इस महत्वपूर्ण बैठक में तेज प्रताप की अनुपस्थिति के बाद पार्टी कार्यकर्ताओं में उनकी सक्रियता को लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं। आपको बता दें कि राजद की इस बैठक में आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर रणनीति तय की गई है।
दिल्ली: सोनिया और शीला दीक्षित के बीच मुलाकात, आप से गठबंधन को लेकर चर्चा!
अलग-थलग दिख रहे तेज प्रताप
दरअसल, तेज प्रताप यादव अपनी पत्नी ऐश्वर्या राय से तलाक को लेकर अचानक चर्चा में आ गए थे। तेज प्रताप ने पटना की एक अदालत में शादी के 6 माह बाद ही पत्नी से तलाक की अर्जी दाखिल की थी। इस वाकये के बाद तेज प्रताप परिवार में अलग-थलग पड़ गए थे। यहां तक कि परिवार के विरोध के चलते उनको अपना घर भी छोड़ना पड़ा था। वहीं, शनिवार को हुई पार्टी की अहम बैठक में तेज प्रताप की अनुपस्थिति ने उनकी राजनीति में सक्रियता को लेकर बड़ा सवाल खड़ा कर दिया।
मारे गए आतंकियों को लेकर राज ठाकरे का सवाल, क्या एयर स्ट्राइक में अमित शाह थे को-पायलट?
उम्मीदवारों के टिकट पर लालू प्रसाद यादव के हस्‍ताक्षर
जानकारी के अनुसार राज्य की पूर्व सीएम राबड़ी देवी के आवास पर हुई राजद विधानमंडल दल की बैठक में चुनाव को लेकर बड़े फैसले लिए गए। बैठक में पार्टी के सभी नीतिगत फैसलों के लिए राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को अधिकृत किया गया। यहां तक कि फैसला लिया गया कि लोकसभा चुनाव के दौरान पार्टी के उम्मीदवारों के टिकट पर लालू प्रसाद यादव के हस्‍ताक्षर होंगे। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव और विधानसभा उपचुनाव की तैयारियों को लेकर भी पार्टी पदाधिकारियों ने मंथन किया।