पीएम मोदी, राहुल गांधी के बयान पर चुनाव आयोग की जांच जारी, राज्य के CEO को रिपोर्ट सौंपने के निर्देश

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव ( Lok Sabha elections ) के दौरान प्रचार करते हुए नेताओं की तीखी बयानबाजी के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ( Supreme Court ) की फटकार के बाद आयोग ने कुछ नेताओं पर कार्रवाई भी की। इसी क्रम में अब चुनाव आयोग ( Election Commission ) ने गुरुवार को बताया है कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ( Mayawati ) समेत कई अन्य के विवादित बयानों की जांच कर रहे हैं।
राज्य के CEO से मांगी रिपोर्ट
आयोग के मुताबिक वे प्रचार के दौरान दिए गए आचार संहिता के उल्लंघन करने वाले कथित बयानों पर दर्ज कराई शिकायतों की जांच कर रहे हैं। इस बारे में वरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा ने जानकारी दी कि इन शिकायतों पर संबंधित राज्यों के मुख्य चुनाव अधिकारियों (CEO) से रिपोर्ट मांगी गई है। कुछ CEO ने रिपोर्ट सौंप दी है और कुछ का अभी भी इंतजार है। सिन्हा ने बताया कि जिन बयानों पर शिकायत आई है उनमें हाल ही में लातूर में पीएम मोदी की ओर से चुनाव प्रचार के दौरान सैन्य अभियानों के पराक्रम का जिक्र किए जाने और एक दूसरे जनसभा में सबरीमाला पर धार्मिक बयान शामिल है। सिन्हा के मुताबिक दोनों मामलों में CEO से प्रधानमंत्री के भाषणों की विस्तृत रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए गए हैं।
यह भी पढ़ें:- पार्टी नेताओं की बदसलूकी से नाराज प्रियंका चतुर्वेदी ने राहुल गांधी को भेजा इस्‍तीफा, दिलाई इस बात की याद
इन मामलों में मिल चुकी है रिपोर्ट
आयोग ने आगे यह भी जानकारी दी कि लातूर में मोदी के बालाकोट एयरस्ट्राइक से जुड़े बयान पर जिला निर्वाचन अधिकारी ने एक रिपोर्ट सौंपी, लेकिन यह पूरी नहीं थी इसलिए दोबार पूरे भाषण की रिपोर्ट मंगाई गई है। इसके अलावा सबरीमाला के संबंध में की गई मोदी की टिप्पणी की रिपोर्ट मिल गई है। आयोग इसकी जांच कर जल्द फैसला करेगा।
दूसरी ओर कांग्रेस के न्याय योजना के नाम पर वोट मांगने की अपील वाले राहुल गांधी के ट्वीट पर आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत दर्ज कराई गई थी। इस पर चुनाव आयोग के महानिदेशक धीरेंद्र ओझा का कहना है कि इस ट्वीट में किसी संसदीय क्षेत्र या स्थान का उल्लेख नहीं है, इसलिए इसे आचार संहिता का उल्लंघन नहीं माना जा सकता है।
मायावती के ट्वीट पर भी संज्ञान
इसके अलावा पीएम मोदी पर आधारित बायोपिक पर बात करते हुए आयोग ने कहा कि एक समिति ने गुरुवार को फिल्म को देखी है। अब समिति के फैसले पर ही निर्धारित होगा कि फिल्म को चुनाव के दौरान किया जाए या नहीं। उन्होंने बताया कि इस रिपोर्ट के बारे में अपनी राय कोर्ट को भी बताया जााएगा। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर आधारित एक अन्य बायोपिक का मामले में राज्य के सीईओ से रिपोर्ट मांगी गई है। इन सभी के अलावा बीएसपी सुप्रीमो मायावती के गुरुवार के कुछ ट्वीट और सपा के रामपुर से उम्मीदवार आजम खान के आपत्तिजनक बयानों के मामले में भी रिपोर्ट मांगी गई है। बता दें कि मायावती ने ट्वीट में चुनाव आयोग के पर कई आरोप लगाए हैं।Indian Politics से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..