पीएम मोदी को चुनाव आयोग से फिर क्लीन चिट,  राजीव गांधी को भ्रष्टाचारी कहने से आचार संहिता का उल्लंघन नहीं

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को ‘भ्रष्टाचारी नंबर -1’ बताने के मामले में पीएम मोदी को चुनाव आयोग से क्लीन चिट मिल गई है। चुनाव आयोग ने पीएम मोदी के बयान को प्रथम दृष्टतया आदर्श आचार संहित का उल्लंघन नहीं माना है। पिछले सप्ताह पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश में एक रैली के दौरान कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के पिता और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के जीवन का अंत ”भ्रष्टाचारी नम्बर एक” के रूप में हुआ। चुनाव आयोग ने माना है कि पहली नजर में पड़ताल करने पर निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के मुताबिक इस मामले में आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन नहीं हुआ है।
ये भी पढ़ें: राजीव गांधी के मुद्दे पर कांग्रेस आगबबूला, कांग्रेस सांसद ने PM मोदी के खिलाफ SC में दायर की याचिका
 
 

EC on complaint against PM over ‘Bhrashtachari No1’ remark against Rajiv Gandhi: Prima facie, we did not figure out any literal violation of MCC as given in Election Commission of India instructions. Case is therefore disposed off. pic.twitter.com/flRb6uzoVL— ANI (@ANI) May 7, 2019

चुनाव आयोग से कांग्रेस की शिकायत
गौरतलब है कि सोमवार को कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग से मुलाकात कर इस बयान को लेकर मोदी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। कांग्रेस ने दलील दी थी कि मोदी ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री और एक शहीद का अपमान किया जिसको लेकर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। लेकिन कांग्रेस की इस मांग को चुनाव आयोग ने प्रथम दृष्टया खारिज कर दी है।
सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मामला
वहीं कांग्रेस अब इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गई है। कांग्रेस की सांसद ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर मोदी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई 8 मई को होगी।