नेशनल वॉर मेमोरियल की आड़ में रक्षा मंत्री का विपक्ष पर तंज, कहा- 60 साल पहले ही बनना चाहिए था

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने नेशनल वॉर मेमोरियल की आड़ में कांग्रेस समेत समस्त विपक्ष पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि बीते 60 सालों से इसका निर्माण रुका हुआ था।
रक्षा मंत्री का विपक्ष पर तंज
रक्षा मंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि बीते सालों में भारत ने चार बड़े युद्घ लड़े थे, लेकिन इसमें शहीद हुए सभी जवानों को समर्पित एक भी राष्ट्र स्तर के मेमोरियल का निर्माण नहीं कराया गया था। उन्होंने कहा कि इस साल फरवरी में सुरक्षाबलों को समर्पित एक वॉर मेमोरियल का उद्धाटन किया गया।

defence minister Nirmala Sitharaman: For the last 60 years a National War Memorial was pending, we have had 4 major wars so far, there wasn’t a single war memorial at national level dedicated to the martyrs of all those wars. A war memorial was dedicated to the forces this Feb. pic.twitter.com/6MgeDvQAbn— ANI (@ANI) March 4, 2019

पूर्व सेना अधिकारियों को किया संबोधित
वहीं, देहरादून में पूर्व सेना अधिकारियों को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा, ‘मैं अाप से अनुरोध करती हूं कि अफवाह फैलाने वाले लोगों का विश्वास न करें। सतर्क रहें।’ उन्होंने विपक्षी दलों को निशाना बनाते हुए कहा कि हमें उन लोगों का बहिष्कार करना चाहिए जो हमारे जवानों के भोलेपन और सच्चाई का फायदा उठाकर भ्रम पैदा करने की कोशिश करते हैं।’

Defence Minister Nirmala Sitharaman addressing ex-servicemen in Dehradun: I request you to please don’t believe in people who spread rumours, please be aware. We need to reject those who use simplicity and sincerity of soldiers to mislead. pic.twitter.com/Ht5ZYzpCMs— ANI (@ANI) March 4, 2019

पिछले महीने पीएम मोदी ने किया था वॉर मेमोरियल का उद्धाटन
आपको बता दें कि 25 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के पहले वॉर मेमोरियल का उद्घाटन किया। 25 हजार से ज्यादा सैनिकों की याद में बने इस वॉर मेमोरियल को बनाने में 176 करोड़ रुपए की लागत आई है। काफी समय से राजनीतिक और प्रशासकीय उदासीनता का शिकार होते आए वॉर मेमोरियल को 60 साल पहले ही प्रस्तावित किया गया था। इतना ही नहीं इसका उद्घाटन पिछले साल 15 अगस्त 2018 को ही होना था। लेकिन, समय पर काम पूरा नहीं होने के कारण इसे टाल दिया गया था।