धर्म के आधार पर वोट डालने की अपील से मुश्किल में सिद्धू!, चुनाव आयोग से शिकायत करेगी भाजपा

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव को लेकर ताबड़तोड़ प्रचार-प्रचार जारी है। सभी दिग्गज नेतागण लगातार एक के बाद एक चुनावी रैलियां कर रहे हैं। इस दौरान वोट बैंक के लिए कई नेता विवादित बयान तक देने से परहेज नहीं कर रहे हैं। पहले बसपा सुप्रीमो मायावती , फिर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ , सपा नेता आजम खान और अब कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने ऐसा बयान दिया है, जिससे सनसनी मच गई है। इस बयान के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) चुनाव आयोग से उनकी शिकायत करेगी।
सिद्धू के खिलाफ चुनाव आयोग जाएगी भाजपा
मंगलवार को बिहार के कटिहार में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने मुस्लिम मतदाताओं से कहा आप अल्पसंख्यक होकर भी यहां बहुसंख्यक हैं। आप अगर एकजुटता दिखाएंगे तो तारिक अनवर को यहां से कोई नहीं हरा सकता है। उन्होंने कहा कि यहां जातपात में बांटने की राजनीति हो रही है। मैं आपसे अपील करता हूं कि एकजुट होकर भाजपा के खिलाफ वोट करें। आपका ऐसा क्षेत्र है जहां आप अल्पसंख्यक नहीं बल्कि बहुसंख्यक हैं। सिद्धू के इस बयान से उनकी मुश्किलें बढ़ सकती है। क्योंकि, भाजपा अब इस बयान के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत करेगी।
विवादित बयानों के कारण मुश्किल में नेता
गौरतलब है कि सोमवार को विवादित बयान देने के कारण चुनाव आयोग ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। चुनाव आयोग ने योगी (तीन दिन), मायावती (दो दिन) के प्रचार पर रोक लगा दी है। इसके अलावा भाजपा नेत्री मेनका गांधी (दो दिन) और सपा नेता आजम खान (तीन दिन) के प्रचार पर भी रोक लगा दी गई है। अब देखना यह है कि सिद्धू के खिलाफ चुनाव आयोग क्या कदम उठाती है?