डिग्री विवादः स्मृति ईरानी के बचाव में उतरे अरुण जेटली, बोले- राहुल गांधी ने बिना मास्टर्स किया एम.फिल

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पर अपनी शैक्षिक योग्यता को लेकर झूठ बोलने के आरोप लगने के बाद शनिवार को वित्त मंत्री अरुण जेेटली ने राहुल गांधी को आड़े हाथों लिया। जेटली ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने भी बिना मास्टर्स डिग्री हासिल किए एम.फिल (मास्टर ऑफ फिलॉसफी) हासिल किया है।
अरुण जेटली ने डिग्री विवाद में यह खुलासा अपने फेसबुक ब्लॉग पर किया है। इस पोस्ट में जेटली ने कहा है कि राहुल गांधी की शैक्षिक योग्यता का ‘पब्लिक ऑडिट’ करने से तमाम सवाल अनुत्तरित रह जाएंगे।
राहुल गांधी के ‘चौकीदार चोर’ बयान पर भाजपा हमलावर, सुप्रीम कोर्ट में 15 अप्रैल को होगी सुनवाई
जेटली ने लिखा, “एक दिन पूरा ध्यान भाजपा के उम्मीदवार की शैक्षिक योग्यता पर चला गया, पूरी तरह यह भूलते हुए कि अगर राहुल गांधी की शैक्षिक योग्यता की सार्वजनिक जांच (पब्लिक ऑडिट) से कई चीजें अनुत्तरित रह जाएंगी। और हो भी क्यों न, उन्होंने बिना परास्नातक उपाधि पाए एम.फिल की डिग्री पाई है।”

इससे पहले वर्ष 2009 में राहुल गांधी की विदेशी डिग्री के ऊपर विवाद छिड़ गया था। कैंब्रिज यूनिवर्सिटी ने कहा था कि कांग्रेस नेता ट्रिनिटी कॉलेज के छात्र थे और उन्हें 1995 में डेवलपमेंट स्टडीज में एम.फिल डिग्री अवॉर्ड की गई थी।
वायनाड हुआ 4G: चार गांधी मैदान में, राहुल के सामने Rahul और Raghul भी
गौरतलब है कि शुक्रवार को स्मृति ईरानी की शैक्षिक योग्यता को लेकर उस वक्त विवाद सामने आ गए थे, जब उन्होंने अमेठी में भरे नामांकन पत्र में अपनी शैक्षिक योग्यता में लिखा था कि उन्होंने स्नातक उत्तीर्ण नहीं किया है।
हालांकि, वर्ष 2014 के शपथ-पत्र में ईरानी ने कथितरूप से लिखा था कि वह दिल्ली यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग से कामर्स ग्रेजुएट हैं और उन्होंने 1994 में बीकॉम की डिग्री हासिल की थी।
Indian Politics से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..
Lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download patrika hindi news App.