चुनाव आयोग से पीएम मोदी को राहत, आचार संहिता का उल्लंघन नहीं था मिशन शक्ति पर भाषण

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनाव आयोग से बड़ी राहत मिली है। आयोग ने कहा है कि पीएम मोदी ने मिशन शक्ति को लेकर देश के नाम जो संबोधन किया था, वो आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है। मोदी के इस भाषण की शिकायत मिलने के बाद आयोग ने सख्ती दिखाई थी। भाषण की जांच के लिए अधिकारियों की एक समिति का गठन का हुआ था।
भाषण की जांच करने वाली कमेटी ने क्या कहा?
जांच कमेटी ने शनिवार को भारतीय निर्वाचन आयोग को अपनी रिपोर्ट सौंपी है। जिसमें कहा गया है कि मोदी ने भाषण ने आदर्श आचार संहिता (MCC) का उल्लंघन नहीं किया। समिति इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि आधिकारिक मास मीडिया के दुरुपयोग के संबंध में MCC के भाग VII के पैरा (IV) में उल्लेखित प्रावधान इस मामले पर लागू नहीं होते।
Earth Hour : धरती को बचाने के मकसद से शनिवार की रात एक घंटे बंद रखें बिजली

Election Commission says PM Modi’s “Mission Shakti” speech didn’t violate Model Code of Conduct (MCC); states, “Committee has reached to conclusion that MCC provision regarding misuse of official mass media as contained in Para (IV) of Part VII of MCC isn’t attracted in the case” pic.twitter.com/fjDZRnvsMc— ANI (@ANI) March 29, 2019

27 मार्च को शुरु हुई थी जांच
27 मार्च को आयोग ने इस कमेटी को निर्देश दिया था कि आदर्श आचार संहिता के मद्देनजर मामले की तुरंत जांच होनी चाहिए। इस समिति के अध्यक्ष आदर्श आचार संहिता विभाग के प्रमुख उप चुनाव आयुक्त डॉक्टर संदीप सक्सेना को बनाया गया था।
आयोग ने मांगी थी भाषण की कॉपी
दरअसल प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार की दोपहर करीब साढ़े बारह बजे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से देश को संबोधित किया। इससे पहले उन्होंने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी थी कि वे एक महत्वपूर्ण संदेश देने वाले हैं। करीब एक घंटे तक देशभर के मीडिया में मोदी के ट्वीट का जिक्र होता रहा। मोदी ने करीब आठ मिनट तक देश को संबोधित किया। इसके बाद कई राजनीतिक पार्टियों ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा कि पीएम को इसकी घोषणा की इजाजत क्यों दी गई? शिकायत मिलने पर आयोग ने सख्त होते हुए प्रधानमंत्री मोदी के भाषण की कॉपी मांगी थी।