चुनाव आयोग का एक और निर्देश- सबरीमला मंदिर के नाम पर वोट न मांगें राजनीतिक पार्टियां

नई दिल्ली। लोकसभा चुनावों में वोट के लिए सेना की फोटो और प्रतीक चिन्हों पर के प्रयोग पर रोक के बाद चुनाव आयोग ने एक और फैसला लिया है। केरल में मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने राजनीतिक पार्टियों से कहा कि किसी भी हालत में सबरीमला मंदिर के नाम पर वोट नहीं मांगा जाना चाहिए।
रफाल दस्तावेज लीक: रक्षा मंत्रालय ने SC में हलफनामा देकर कहा- देश की संप्रभुता से समझौता हुआ
भगवान अयप्पा के नाम का न हो इस्तेमाल: आयोग
राज्य निर्वाचन अधिकारी टीकाराम मीना ने कहा कि सभी राजनीतिक पार्टियों को स्पष्ट कर दिया गया है कि किसी भी कीमत पर चुनाव अभियान में भगवान अयप्पा के नाम का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। क्योंकि इसके राजनीतिक निहितार्थ हैं।
बीजेपी बोली- अयोध्या, बाबरी होगा तो सबरीमला क्यो नहीं
वहीं केरल बीजेपी अध्यक्ष पी.एस. श्रीधरन पिल्लई ने टीकाराम मीना से मुलाकात की है। इसके बाद उन्होंने कहा कि जिस तरह से बाबरी मस्जिद, अयोध्या और गांधीजी के निधन पर चर्चा की गई थी, सबरीमला मुद्दे पर भी चर्चा की जा सकती है। हालांकि भगवान अयप्पा के नाम पर लोगों को भड़काने का काम और वोट मांगने का काम निश्चित ही नहीं होना चाहिए।