चंद्रबाबू नायडू ने शरद पवार से की मुलाकात, नई सरकार के गठन को लेकर हुई चर्चा

नई दिल्ली। आंध्र के सीएम चंद्रबाबू नायडू कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मुलाकात की है। कुछ देर पहले आंध्र के सीएम दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से भी मिले हैं। शरद पवार से मुलाकात के दौरान नई सरकार के गठन को लेकर बातचीत हुई है।
 

Andhra Pradesh CM and Telugu Desam Party (TDP) Chief N. Chandrababu Naidu met Nationalist Congress Party (NCP) President Sharad Pawar in Delhi, earlier today. pic.twitter.com/vGBXbInO9P— ANI (@ANI) May 18, 2019

राहुल गांधी से भी की मुलाकात
जानकारी के मुताबिक सीएम चंद्रबाबू नायडू और कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी के बीच बदले राजनीति समीकरणों के मुद्दे पर बातचीत हुई। साथ ही किसी एक पार्टी को बहुमत न मिलने की स्थिति में वैकल्पिक सरकार के गठन को लेकर संभावित रणनीतियों पर भी चर्चा हुई।
 

Delhi: Andhra Pradesh CM N. Chandrababu Naidu arrives at Congress President Rahul Gandhi’s residence. pic.twitter.com/1oSUqayFBJ— ANI (@ANI) May 18, 2019

मोदी विरोधी गठजोड़ तैयार करने में जुटे हैं नायडू
दस दिन पहले भी आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिले थे। इस दौरान दोनों नेताओं ने चुनावी समीकरणों पर चर्चा की थी। आठ मई को हुई बैठक में दोनों नेताओं के बीच चुनाव के आखिरी चरण के बाद 21 मई को विपक्षी पार्टियों की बैठक बुलाने पर भी सहमति बनी थी। आठ मई को नायडू राहुल गांधी से चर्चा के बाद ममता बनर्जी के समर्थन में पश्चिम बंगाल में एक रैली को संबोधित करने कोलकाता गए थे। जहां पर उनकी बातचीत ममता दीदी से भी हुई थी।
सुप्रीम कोर्ट ने वीवीपैट पर चंदबाबू को दिया था झटका
इससे पहले आंध्र के सीएम चंद्रबाबू नायडू दिल्ली में ईवीएम-वीवीपैट को लेकर 21 दलों को एक मंच पर ला चुके हैं। लेकिन वीवीपैट को लेकर उनकी मुहिम को झटका उस समय लगा था जब सुप्रीम कोर्ट ने उनकी याचिका पर आगे की सुनवाई से इनकार कर दिया। विपक्षी पार्टियों का मांग थी कि प्रत्येक विधानसभा की 50 प्रतिशत ईवीएम मशीनों के नतीजों का मिलान वीवीपैट से किया जाए। सुप्रीम कोर्ट ने इस मांग को खारिज करते हुए अपने पुराने फैसले पर ही बने रहने का निर्णय लिया। इस लिहाज सेे चुनाव आयोग को विधानसभा की 5 बूथों की मशीनों का मिलान वीवीपैट से कराना अनिवार्य होगा।