गोवा: प्रमोद सावंत ने आयुर्वेद के डॉक्टर से गोवा के मुख्यमंत्री तक ऐसे तय किया सफर

नई दिल्ली। डॉ. प्रमोद सावंत ने सोमवार देर रात को गोवा के 11वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। भाजपा के युवा नेता और गोवा विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष प्रमोद सावंत इससे पहले राज्य के मंत्रिमंडल में कभी मंत्री तक नहीं रहे। बावजूद इसके वह राज्य के सर्वोच्च राजनीतिक पद पर पहुंचे।
अरुणाचल: राहुल गांधी निशाने पर पीएम मोदी, रफाल की जांच कराने से डर रहे चौकीदार
आयुर्वेदिक मेडिसन में स्नातक
महाराष्ट्र के कोल्हापुर जिला में स्थित गंगा आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज से आयुर्वेदिक मेडिसन में स्नातक की डिग्री लेने वाले सावंत (45) गोवा में वैकल्पिक चिकित्सा के डॉक्टर के तौर पर काम चुके हैं। उन्होंने अपनी समाज कल्याण में परास्नातक (एमएसडब्ल्यू) की पढ़ाई पुणे की एक डीम्ड यूनिवर्सिटी तिलक महाराष्ट्र विद्यापीठ से पूरी की।
आंध्रा: जन सेना ने उम्मीदवारों की तीसरी सूची की जारी, 2 सीटों पर लड़ेंगे पवन कल्याण
— जन्म 24 अप्रैल 1973 को जन्मे 45 वर्षीय डॉ. प्रमोद सावंत — भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाली।— 2012 में पहली बार सैंकलिम विधानसभा क्षेत्र से चुनकर आए।— इस सीट से दो बार (2012 और 2017) विधायक चुने गए।— जाति से मराठा सावंत ने 2017 से विधानसभा अध्यक्ष के तौर पर भी काम किया।— पर्रिकर ने उन्हें 2017 में विधानसभा अध्यक्ष बनाया था।— 2019 में पर्रिकर के बाद सीएम पद की जिम्मेदारी संभाली।
सीआरपीएफ कार्यक्रम में बोले अजीत डोवाल— आतंकियों के मददगारों को बख्शा नहीं जाएगा
पत्नी सुलक्षणा रसायन विज्ञान की शिक्षिका
आपको बता दें कि प्रमोद सावंत किसान और आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति के प्रैक्टिशनर भी हैं। इसके साथ ही उनकी पत्नी सुलक्षणा रसायन विज्ञान की शिक्षिका हैं। भाजपा गोवा महिला मोर्चा की अध्यक्ष होने साथ ही वह बीकोलिम के श्री शांतादुर्गा हायर सेकेंडरी स्कूल में अध्यापन करती हैं। आपको बता दें कि मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद प्रमोद सावंत ने गोवा के सीएम के रूप में शपथ ली है। भाजपा नेता प्रमोद सावंत इससे पहले गोवा की विधानसभा के अध्यक्ष थे।