गोवा के डिप्टी स्पीकर का बड़ा बयान, बोले- सीएम पर्रिकर को कुछ भी हुआ तो अगला सीएम BJP का ही होगा

नई दिल्ली। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की तबीयत दिन-ब-दिन खराब होते जा रहा है और इसी के साथ ही राज्य की सियासत भी गर्माता जा रहा है। इसी कड़ी में गोवा विधानसभा के डिप्टी स्पीकर ने एक बड़ा बयान दिया है। डिप्टी स्पीकर माइकल लोबो ने कहा है कि सीएम पर्रिकर की तबियत बहुत ज्यादा खराब है और उनके ठीक होने की उम्मीद कम है। लेकिन वे डॉक्टरों की निगरानी में हैं और हम सब उनके जल्द ठीक होने की प्रार्थना कर रहे हैं। उन्होंने कहा यदि सीएम पर्रिकर को कुछ भी होता है तो गोवा का अगला मुख्यमंत्री भी भाजपा का ही होगा। जब तक पर्रिकर यहां पर हैं तब तक वे ही मुख्यमंत्री रहेंगे और भाजपा का नेतृत्व नहीं बदलेगा। माइकल लोबो ने कहा कि बीती रात पर्रिकर की तबियत ज्यादा खराब होने के बाद इमरजेंसी मीटिंग बुलाई गई। वे डॉक्टर की निगरानी में हैं और वे ये नहीं कह रहे हैं कि पर्रिकर ठीक नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि विधानसभा की 3 सीटों पर उपचुनाव भी होना है। इसको लेकर उम्मीदवारों के नाम पर भी बात हुई।

Michael Lobo: Leadership in Goa won’t change. Till Parrikar is here, only he’ll remain the Chief Minister & no one has made the demand to replace him. We’re praying that he gets well, but there are no chances, he is very ill.But if anything happens to him, new CM will be from BJP pic.twitter.com/zfvwDrbXBN— ANI (@ANI) March 16, 2019

प्रियंका गांधी ने जिस प्रत्याशी को दिया टिकट, उसका उनकी ही पार्टी में होने लगा विरोध
कांग्रेस ने सरकार बनाने का पेश किया दावा
आपको बता दें कि गोवा की सियासी हलचल और भी तेज तब हो गया जब कांग्रेस ने सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया। विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर ने राज्यपाल मृदुला सिन्हा को पत्र लिखा है। अपने पत्र में यह दावा किया है कि गोवा में भाजपा सरकार अल्पमत में है, इसलिए बर्खास्त किया जाए और कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए निमंत्रित किया जाए। पत्र में यह कहा गया है कि विधायक फ्रांसिस डिसूजा के दुखद निधन के बाद मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में राज्य सरकार सदन में बहुमत खो चुकी है। आपको बता दें कि गोवा में विधानसभा की 40 सीटें हैं और सरकार बनाने के लिए 21 विधायकों के समर्थन की आवश्यकता है। कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है। कांग्रेस के पास 14 विधायक हैं, जबकि भाजपा के पास 13 हैं। इसके अलावा महाराष्ट्रवादी गोमंतक पार्टी के पास तीन, गोवा फार्वड पार्टी के भी तीन और निर्दलीय विधायक तीन हैं। भाजपा ने गोमंतक पार्टी, गोवा फार्वड पार्टी और निर्दलीय विधायक के साथ मिलकर सरकार बनाई है। लेकिन अब कांग्रेस का अब दावा है कि पर्रिकर सरकार अल्पमत में है, लिहाजा इसे बर्खास्त किया जाए।
 
Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.