गैर भाजपा और गैर कांग्रेस सरकार को लेकर मिले दक्षिण के दो दिग्‍गज नेता, सियासी संभावनाओं पर की बातचीत

नई दिल्‍ली। लोकसभा चुनाव 2019 के छठे और सातवें चरण का मतदान अभी शेष है। साथ ही मतगणना भी 23 मई को होनी है, लेकिन केंद्र में नई सरकार के गठन को लेकर देश भर के नेताओं ने अभी से वैकल्पिक संभावनाओं की तलाश शुरू कर दी है। इस दिशा में सबसे पहले सियासी कदम उठाकर तेलंगाना के मुख्‍यमंत्री के चंद्रशेखर राव और केरल के मुख्‍यमंत्री पी विजयन सुर्खियों में आ गए हैं। बताया गया है कि दोनों के बीच लोकसभा चुनाव और संभावित विकल्‍पों पर चर्चा हुई है। हालांकि इस बारे में दोनों नेताओं ने कोई बयान जारी नहीं किया है।
 
बैठक के बाद केरल मुख्‍यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि तिरुवनंतपुरम में हुई बैठक में टीआरएस सांसद संतोष कुमार और विनोद कुमार भी मुलाकात के दौरान उपस्थित थे। बता दें कि केसीआर दो दिनों के केरल यात्रा पर हैं।
 

Kerala CM P Vijayan: Yesterday’s meeting with KC Rao was significant. We discussed the national political scenario. According to KC Rao, both the fronts may not get a majority. So, the regional parties will play a prominent role. There were no discussions about the PM candidate. pic.twitter.com/EIbmGfyJQP— ANI (@ANI) May 7, 2019

सियासी संभावनाओं पर हुई गुफ्तगू
जानकारी के मुताबिक दक्षिण के दो दिग्‍गज नेताओं के बीच केरल में गैर भाजपा और गैर कांग्रेस सरकार के गठन को लेकर बातचीत हुई है। दोनों की राय इस बात पर एक है कि केंद्र में किसी एक पार्टी की सरकार नहीं बनने जा रही है। अगर ऐसा होता है कि तो चुनाव बाद क्षेत्रीय दलों का नया गठजोड़ बनाकर वैकल्पिक सरकार के गठन पर विचार किया जा सकता है।
लोकसभा चुनावः हिंसक टकराव के बाद क्या भगवा ब्रिगेड वामपंथ के आखिरी ‘किले’ में सेंध लगा पाएगी?
 थर्ड फ्रंट के गठन पर जोर
बता दें कि केसीआर गैर भाजपा और गैर कांग्रेस सरकार को लेकर लंबे अरसे से फेडरल फ्रंट पर जोर देते आए हैं। इस बात को लेकर वह पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी, ओडिशा के मुख्‍यमंत्री नवीन पटनायक, सपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश यादव, कई क्षेत्रीय दलों के नेताओं से चुनाव पूर्व भी मिल चुके हैं। वह मानते हैं कि किसी एक पार्टी की सरकार न बनने की स्थिति में तृणमूल कांग्रेस, बीजू जनता दल, समाजवादी पार्टी, जेडीएस, डीएमके, सपा, बसपा, वाईएसआर, आरजेडी व अन्‍य क्षेत्रीय दलों को मिलाकर थर्ड फ्रंट के नेतृत्‍व में केंद्र में सरकार का गठन संभव है। जानकारी के मुताबिक इस सियासी रणनीति पर अमल करने के लिए आगामी कुछ दिनों के अंदर वो क्षेत्रीय दलों के नेताओं से मुलाकात करेंगे। 
Indian Politics से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..Lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download patrika Hindi News App.