गुजरातः गांव वालों ने चिपकाए पोस्टर, सर्जिकल स्ट्राइक पर सबूत मांगने वाले वोट मांगने न आएं

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के करीब आते ही नेता धुआंधार प्रचार में जुट गए हैं, लेकिन गुजरात से इस दौरान एक दिलचस्प खबर सामने आई है। दरअसल यहां मोरबी क्षेत्र में एक गांव के लोगों ने वोट मांगने वालों के सामने अनूठी शर्त रखी है। गांव वालों का कहना है कि सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगने वाले यहां वोट मांगने न आएं। अपनी इस शर्त को गांव वालों ने बकायदा पोस्टर बनाकर कई जगहों पर चस्पा भी कर दिया है।
गांववालों ने ये भी लिखा कि वे भारतीय सेना का अपमान करने वाले दल को वोट नहीं देंगे। इन पोस्टर में किसी दल या नेता का नाम तो नहीं लिया गया, लेकिन जब कांग्रेसी नेताओं को गांव वालों के ये पोस्टर रास नहीं आ रहे।
चुनाव आयोग के आदेशों की अवहेलनाइन पोस्टर के खिलाफ नाराजगी जताते हुए कांग्रेसी नेताओं ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग अधिकारियों से कर दी। कांग्रेस की ओर से कहा गया कि ऐसे पोस्टरों से आयोग के आदेशों की अवहेलना की गई है, लिहाजा कानूनी कार्रवाई की जाए।
आपको बता दें कि, ये पोस्टर मोरबी में महेन्द्रनगर गांव के बस स्टैण्ड पर लगे हैं। स्थानीय लेागों ने गुजराती भाषा में इन पर लिखा, “भारतीय सैना से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगने वाली पार्टी को यहां वोट मांगने आना मना है, गांव के लोग सेना का अपमान करने वाली पार्टी को वोट नहीं देंगे।”
इन पोस्टर्स पर किसी का नाम लिखने के बजाय निचले हिस्से पर राष्ट्र प्रेमी महेन्द्रनगर ग्रामजन लिखा गया है। कांग्रेस ने चुनाव आयोग में आचार संहिता का उल्लंघन बताकर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की।