गिरिराज सिंह को विवादित बयान पर चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस, 24 घंटे में मांगा जवाब

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव ( Lok Sabha Election 2019 ) प्रचार के दौरान शब्दों की मर्यादा तार-तार करने वाले नेताओं पर चुनाव आयोग लगातार डंडे चला रहा है। इसी कड़ी में बिहार के बेगूसराय से एनडीए उम्मीदवार गिरिराज सिंह ( Giriraj Singh ) को विवादित बयान देने पर आयोग ने नोटिस भेजा है। बेगूसराय ( Begusarai ) में गिरिराज का मुकाबला वामपंथी दलों के साझा उम्मीदवार कन्हैया कुमार ( Kanhaiya Kumar ) से है।
धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप
बीजेपी नेता ने एक चुनावी जनसभा के दौरान अल्पसंख्यकों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला बयान दिया था। इसके बाद जिला निर्वाचन आयोग ने इसे आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन करने का मामला दर्ज किया था। अब जाकर आयोग ने गिरिराज सिंह को नोटिस भेज 24 घंटे में जवाब मांगा है।
आसनसोल: पोलिंग बूथ में हिंसा पर EC सख्त, केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो पर FIR का आदेश

Giriraj Singh had reportedly said “Who don’t say Vande Mataram, can’t worship motherland. My father and grandfather died by banks of Ganga and did not need a grave. But you need three-arm’s-length of land. If you don’t do it, the country will never forgive you’ 2/2 https://t.co/vSXXAtzFOV— ANI (@ANI) April 29, 2019

क्या कहा था गिरिराज सिंह ने ?
24 अप्रैल को बेगूसराय के जीडी कॉलेज में गिरिराज सिंह एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि जो वंदे मातरम नहीं कह सकता, जो भारत की मातृभूमि को नमन नहीं कर सकता… अरे गिरिराज के तो बाबा-दादा सिमरिया घाट में गंगा के किनारे मरे। उसी भूमि पर कब्र भी नहीं बनाया। तुम्हें तो तीन हाथ का जगह भी चाहिए। अगर तुम नहीं कर पाओगे, तो देश कभी माफ नहीं करेगा।
पटना साहिब से पर्चा भरने के बाद बोले शत्रुघ्न सिन्हा- बिगुल बज गया है रण का, शांत नहीं बैठूंगा
जिला निर्वाचन आयोग ने दर्ज कराई थी शिकायत
गिरिराज सिंह के बयान पर बेगूसराय के जिला निर्वाचन पदाधिकारी राहुल कुमार ने मामले में स्वत: संज्ञान लिया। उन्होंने नेता के खिलाफ बेगूसराय के नगर थाना में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज कराया। जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने कहा कि गिरिराज का यह बयान अल्पसंख्यकों की धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने वाला है, जो आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। गिरिराज के खिलाफ जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 125 एवं 123, भादवि की धारा 153 ए, 153 बी, 295 ए, 171 सी, 188, 298 तथा 505 दो के तहत गुरुवार को नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई थी।
Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..