कोलकाता में शोर-शराबे के बाद अमित शाह का रोड शो शुरू, धर्मतल्ला से विवेकानंद आवास तक चलेगा रोड शो

कोलकाता। कोलकाता में भारी विरोध के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का रोड शो शुरू हो गया है। 7 किलोमीटर तक चलने वाले रोड शो में बड़ी संख्या में लोग मौजूद हैं। यह रोड शो धर्मतल्ला से विवेकानंद आवास तक चलेगा। रोड शो में झांकी भी निकाली गई है। अमित शाह के रोड शो से पहले कोलकाता पुलिस और भाजपा आमने- सामने है। कोलकाता पुलिस ने रैली स्थल पर पहुंचकर भाजपा के बैनर और पोस्टर हटा दिए। पुलिस का कहना है कि पार्टी की ओर से रैली की परमिशन वाले कागज नहीं दिखाए जाने पर मोदी और शाह के पोस्टर हटाए गए हैं।
ये भी पढ़ें: कोलकाता: अमित शाह की रैली से पहले हंगामा, पुलिस ने बैनर और पोस्टर हटाए, ममता ने आयोग को लिखी चिट्ठी

West Bengal: Visuals from Bharatiya Janata Party (BJP) President Amit Shah’s roadshow in Kolkata. pic.twitter.com/y3hcIrTbtG— ANI (@ANI) May 14, 2019

ये भी पढ़ें: JDU का न्योता, PM मोदी के समर्थन में आएं BJD और YSR कांग्रेस
विजयवर्गीय ने टीएमसी पर साधा निशाना
वहीं भाजपा के वरिष्ठ नेता और पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी पर निशाना साधा है। विजयवर्गीय ने प्रशासन पर आरोप लगाया कि परिमशन मिलने के बाद भी होर्डिंग और पोस्टर हटाए गए हैं। भाजपा इसकी शिकायत चुनाव आयोग से करेगी।
 

West Bengal: BJP alleges that party posters and flags were removed by TMC workers and Police ahead of Amit Shah’s roadshow in Kolkata. Kailash Vijayvargiya, says,”Mamata ji’s goons and police removed all the posters and flags. They escaped soon after we reached here.” pic.twitter.com/QNrHnzHSbN— ANI (@ANI) May 14, 2019

ममता ने चुनाव आयोग को लिखी चिट्ठी
वहीं प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस पूरे मामले को लेकर चुनाव आयोग से शिकायत की है। ममता ने आयोग से आखिरी और सातवें चरण के चुनाव में केंद्रीय सुरक्षाबलों की तैनाती की मांग की है। मुख्यमंत्री ने स्थानीय अधिकारियों को संपर्क नहीं रखने का आरोप लगाया है। ममता ने आयोग से क्विक रिस्पॉन्स टीम में स्थानीय अफसर होने की भी मांग की है।

West Bengal Government writes to Election Commission over deployement of Central Armed Police Forces (CAPF) in the state for 7th phase of #LokSabhaElections2019; requests, “decision for not having a local officer in charge of Quick Response Teams (QRTs) be re-examined” pic.twitter.com/EDrazGkyYX— ANI (@ANI) May 14, 2019