केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो पर FIR दर्ज करने का आदेश, आसानसोल में हिंसा का मामला

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के चौथे चरण की वोटिंग के दौरान एकबार फिर पश्चिम बंगाल से हिंसा की सबसे अधिक खबर आई है। इसी बीच केंद्रीय मंत्री और आसनसोल से बीजेपी प्रत्याशी बाबुल सुप्रियो चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई की है। आयोग ने बूथ में जबरन घुसने की कोशिश के आरोप में सुप्रियो पर एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं।सोमवार की सुबह जब बाबुल बाराबनी क्षेत्र के एक पोलिंग बूथ पर तैनात सुरक्षाबलों और अधिकारियों की मना करने के बाद भी घूसने की कोशिश कर रहे थे। सुप्रियो ने मीडिया से बताया, ‘वे मुझे रोकने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन इस तरह से वे मुझे रोक नहीं पाएंगे। मैं यह सुनिश्चित करने गया था कि बीजेपी के एजेंट को अंदर प्रवेश की अनुमति है या नहीं। उन लोगों ने मेरी कार पर हमला किया और खुद यह भी कह रहे हैं कि मैं गुंडागंर्दी का सहारा ले रहा हूं। यह मुझे एक जगह पर बांधने के लिए ऐसा किया गया, लेकिन मैं आगे बढ़ूंगा।’ इसी दौरान किसी ने उनकी कार के पिछले शीशे पर हमला कर उसे चकनाचूर कर दिया गया। यह हमला तब हुआ जब लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में पश्चिम बंगाल के आठ निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान हो रहा है। आसनसोल संसदीय क्षेत्र से मौजूदा सांसद बाबुल सुप्रियो का मुकाबला तृणमूल कांग्रेस ( TMC ) की उम्मीदवार अभिनेत्री मुनमुन सेन से है।वहीं, दूसरी ओर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि बाबुल सुप्रियो और उनके आदमियों ने उनसे हाथापाई की। चुनाव आयोग के सूत्रों के मुताबिक इस सम्बंध में विस्तृत ब्यौरा मांगा गया है।