कर्नाटक: बागी विधायक उमेश जाधव ने दिया पद से इस्तीफा, कांग्रेस का तंज- खुद को भाजपा को बेच दिया

बेंगलूरु। कर्नाटक के सियासत में एक बार फिर उथल-पुथल मच गई है। दरअसल चिंचोली के कांग्रेस विधायक उमेश जाधव ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उमेश जाधव ने सोमवार को विधानसभा अध्यक्ष के रमेश कुमार को अपना इस्तीफा सौंप दिया। इसके बाद से ये कयास तेज हो चुके हैं कि अब उमेश जाधव भाजपा में शामिल होंगे। इसके साथ ही उनके कलबुर्गी लोकसभा सीट से मल्लिकार्जुन खड़गे के खिलाफ चुनाव लड़ने की भी संभावना जताई जा रही है। जाधव के फैसले पर कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश राव ने निशाना साधा है।
जाधव पर बड़ा बयान
जाधव पर तीखी टिप्पणी करते हुए दिनेश ने कहा कि उन्होंने खुद को भाजपा को बेच दिया था, इसलिए उन्होंने इस्तीफा दे दिया है। आपको बता दें कि उमेश जाधव का कांग्रेस से इस्तीफा देना पार्टी के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है। कुल 225 सदस्यों वाली कर्नाटक विधानसभा में अब कांग्रेस के पास सिर्फ 79 विधायक हैं।
इस तरह शुरू किया था राजनीतिक सफर
आपको बता दें कि पेशे से डॉक्टर उमेश जाधव ने वर्ष 2013 में कांग्रेस में शामिल होकर अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत की थी। इसी साल हुए विधानसभा चुनाव में वे चिंचोली से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़े और जीत दर्ज की। इसके बाद वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में भी उन्होंने दूसरी बात जीत दर्ज की। जानकारी के मुताबिक जाधव पिछले कुछ दिनों से पार्टी से नाराज चल रहे थे। दावा किया जा रहा है कि कथित तौर पर कलबुर्गी जिले के चितापुर विधानसभा के विधायक और मंत्री प्रियांक खड़गे से उनके संबंध अच्छे नहीं थे। प्रियांक खड़गे मलिकार्जुन खड़गे के बेटे हैं।
बढ़ रहे थे मतभेद
बढ़ते मतभेदों के बीच भाजपा के कथित ऑपरेशन कमल के दौरान वे कई दिनों तक गायब रहे। बजट सत्र के दौरान और उसके पहले भी उन्होंने पार्टी व्हिप का कई बार उल्लंघन किया। उमेश जाधव का पार्टी से इस्तीफा देना इस बात का संकेत है कि वे जल्द भाजपा में शामिल होंगे और आगामी लोकसभा चुनाव में मलिकार्जुन खरगे के खिलाफ कलबुर्गी लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे।
इस दिन शामिल होंगे भाजपा में
सूत्रों के मुताबिक 6 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में उनके भाजपा में शामिल होने की संभावना है। गौरतलब है कि मल्लिकार्जुन खड़गे 1972 से लेकर आज तक एक भी चुनाव नहीं हारे हैं और अगर उनके खिलाफ उमेश जाधव भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ते हैं, तो ये मुकाबला काफी कड़ा होने वाला है। हैदराबाद कर्नाटक क्षेत्र के तहत आने वाला कलबुर्गी जिला कांग्रेस का गढ़ रहा है और भाजपा को अभी तक यहां पर आशातीत सफलता नहीं मिली है।