एयर स्ट्राइक: जावड़ेकर का विपक्ष पर हमला, कहा- सबूत मांगना पाकिस्तान की मदद करना

नई दिल्ली। भारतीय वायु सेना की ओर से पाक अधिकृत कश्मीर में किए एयर स्ट्राइक पर विपक्ष लगातार सवाल उठा रहा है। विपक्ष सरकार से हवाई हमले का सबूत मांग रहा है, जिसकी केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आलोचना की है। उन्होंने कहा कि एयर स्ट्राइक एक महत्वपुर्ण ऑपरेशन था, उसका विवरण साझा नहीं किया जा सकता, क्योंकि इससे पड़ोसी देश को मदद मिलेगी। बता दें कि यह बातें जावड़ेकर ने पश्चिम बंगाल के बर्दवान में भाजपा के बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ की एक बैठक में कही।
यह भी पढ़ें-कश्मीर: कांग्रेस नेता गुलाम अहमद मीर की भारत-पाक को सलाह, शांति से ढूंढें आतंक के खिलाफ
जावड़ेकर ने कहा कि एयर स्ट्राइक का सबूत मांगना सशस्त्र बलों पर विश्वास ना करने के बराबर है। उन्होंने कहा कि समूचे देश को हमारी सेना पर भरोसा है। वायु सेना पर हमे गर्व है। एयर फोर्स ने पाकिस्तान के अंदर जाकर हवाई हमले किए तब इस पर शक करना और सबूत मांगना असल में पाकिस्तान की मदद करना है।
हवाई हमले का हो रहा है राजनीतिकरण: जावड़ेकर
मानव संसाधन विकास मंत्री ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा , ‘हवाई हमले का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए जैसा विपक्षी पार्टियां कर रही हैं वह गलत है। उन्होंने कहा कि देश का एक-एक व्यक्ति हमारे सशस्त्र बलों और वायु सेना के साथ एकजुटता के साथ खड़ा है। वायु सेना से उनके ऑपरेशन का विवरण मांगना पूरी तरह से अनुचित है। वहीं उन्होंने भाजपा पर हवाई हमले का राजनीतिकरण करने के आरोपों को खारीज करते हुए कहा कि पार्टी ने राजनीतिक उद्देश्यों को साधने के लिए कभी भी जवानों की वीरता का इस्तेमाल नहीं किया।
यह भी पढ़ें-राष्ट्रपति कोविंद ने की एयर स्ट्राइक की तारीफ, कहा-जरूरत पड़ी तो देश के लिए हम पूरी ताकत
विपक्ष मांग रहा है सूबत
आपको बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेतादिग्विजय सिंह और कपिल सिब्बल समेत कई अन्य नेताओं ने भारतीय वायु सेना के हमले का सबूत मांगा है। कांग्रेस के अलावा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने भी सरकार से इसके सबूत मांगे हैं।
गौरतलब है कि 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले का बदला लेते हुए भारतीय वायु सेना ने सीमापार बालाकोट में एयर स्ट्राइक कर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया था। इस हमले में जैश के 300 से भी ज्यादा आतंकियों के मारे जाने का दावा किया जा रहा है।