आखिर नवजोत सिंह सिद्धू ने क्यों बंद किया प्रचार? दो अलग-अलग वजहों से मचा बवाल

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के स्टार प्रचारकों में शुमार पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के अचानक प्रचार बंद करने से हड़कंप मचा हुआ है। खास बात यह है कि उनके प्रचार बंद करने के बाद दो अलग-अलग वजह सामने आई हैं, इन अलग-अलग वजहों ने एक तरफ तो कांग्रेस की चिंता बढ़ा दी है तो दूसरी तरफ विरोधियों के चेहरे पर मुस्कान ला दी है। आखिर अंतिम चरण के मतदान से पहले विरोधियों को बड़ी सफलता जो हाथ लगी है।
इन दो वजहों से बढ़ा घमासान
नवजोत सिंह सिद्धू के प्रचार बंद करने को लेकर सोमवार को दिनभर जो वजह सामने आई वो थी उनके गला खराब होने की खबर। जी हां इस खबर के मुताबिक सिद्धू की वॉकल कॉड में दोबारा दिक्कत आने लगी थी। जिसके चलते चिकित्सकों ने उन्हें पूरी तरह आराम करने की सलाह दी थी। इस खबर ने दिन भर सुर्खियां बंटोरी। एक ओर प्रचार के अंतिम पलों में दिग्गज प्रचारक के जाने से कांग्रेसी खेमे में मायूसी थी तो दूसरी तरफ विरोधी खेमे में उत्साह। खास तौर पर भाजपा के लिए अच्छी खबर थी।
पत्नी ने कर दिया बड़ा खुलास
एक दिन पहले सिद्धू के गला खराब होने की खबर अभी थमी ही नहीं थी कि सिद्धू पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने बड़ा धमाका कर दिया। नवजोत कौर ने सिद्धू के प्रचार रुकने की वजह प्रदेश के मुख्यमंत्री को बताया। नवजोत ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह नहीं चाहते कि सिद्धू प्रचार करें।
कमल हासन के बयान पर भड़के तमिलनाडु के मंत्री केटी बालाजी, ऐसा बोलने वाले की जीभ काट देनी चाहिए
सिद्धू से पंजाब में प्रचार न कराए जाने की वजह नवजोत कौर ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को बताया है। नवजोत कौर ने कहा है कि अमरिंदर सिंह नहीं चाहते कि सिद्धू पंजाब में प्रचार करे। यहां तक कि नवजोत ने खुद को टिकट न मिलने पर भी बड़ा आरोप लगाया। नवजोत कौर के मुताबिक कैप्टन की वजह से उनका टिकट भी कटा है।
आज भी दिल्ली-एनसीआर पर मेहरबान रहेगा मौसम, पहाड़ी इलाकों में पूरे हफ्ते होगी बारिश और बर्फबारी
 
आपको बता दें कि सातवें और अंतिम चरण में पंजाब की सभी लोकसभा सीटों पर 19 मई को मतदान होना है। इससे ठीक पहले पंजाब सरकार में आपस में फूट भाजपा के लिए अच्छी खबर साबित हो सकती है। दरअसल मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के बीच कई मसलों पर मतभेद की सुर्खियां पहले भी बनती रही हैं। फिर वो पाकिस्तान जाकर वहां के रक्षा मंत्री को गले लगाना हो या फिर कई मुद्दों पर राहुल गांधी को अपना कैप्टन बताकर सुर्खियां बंटोरना। सिद्धू ने हमेशा से ही कैप्टन अमरिंदर सिंह की राडार पर रहे। कई बार तो ये खबरें भी सामने आईं कि सिद्धू की नजर सीएम की कुर्सी पर है।