अपने एग्जिट पोल में भी पिछड़ी कांग्रेस, NDA को बढ़त

नई दिल्ली। 23 मई ( गुरुवार ) यानी कल लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम घोषित किए जाएंगे। लेकिन, पिछले दो दिनों से एग्जिट पोल से देश में सियासत गर्म है। करीब-करीब हर एग्जिट पोल में एक बार फिर NDA की सरकार बन रही है। वहीं, अब कांग्रेस पार्टी का भी एग्जिट पोल सामने आया है। अपने एग्जिट पोल में भी कांग्रेस पिछड़ रही है, जबकि NDA 35 सीटों से आगे है। कांग्रेस के मुताबिक, NDA भी बहुमत के आंकड़े को नहीं छू पा रहा है।
पढ़ें- राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं को किया सावधान, ‘अगले 24 घंटे हमारे लिए महत्‍वपूर्ण’
NDA को 230 सीटें
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कांग्रेस के एग्जिट पोल में बीजेपी ( BJP ) को 200 कम सीटें मिलेगी। वहीं, एनडीए ( NDA ) को 230 सीटें मिल रही है। जबकि, कांग्रेस ( CONGRESS ) अकेले 140 सीटों पर जीत दर्ज कर सकती है। वहीं, यूपीए ( UPA ) 195 से अधिक सीट जीत रहा है। पार्टी के इस आंतरिक सर्वे के हिसाब से कांग्रेस को उम्मीद है कि यूपीए तमिलनाडु, केरल और पंजाब में अच्छा प्रदर्शन करेगी। वहीं बिहार, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, झारखंड और हरियाणा में भी पार्टी को बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। कांग्रेस पार्टी का मानना है कि यूपीए बिहार में 15, महाराष्ट्र में 22-24, तमिलनाडु में 34, केरल में 15, गुजरात में 7, कर्नाटक में 11-13, पश्चिम बंगाल में 2, मध्य प्रदेश में 8-10, हरियाणा में 5-6, राजस्थान में 6-7 सीटें जीतेगी। इन राज्यों के अलावा यूपीए उत्तर प्रदेश में पांच, दिल्ली में दो, पंजाब में नौ, चंडीगढ़ की सीट, छत्तीसगढ़ में नौ, ओडिशा में दो, तेलंगाना में दो, जम्मू एवं कश्मीर में दो, हिमाचल प्रदेश में एक, गोवा में एक, झारखंड में पांच, उत्तराखंड में दो, पूर्वोत्तर के राज्यों में नौ से दस, असम में छह, अरुणाचल प्रदेश में एक, मेघालय में दो और नगालैंड में 1 सीट पर जीत दर्ज करेगी। कांग्रेस ने यह आंकड़े देश के अलग-अलग चुनाव क्षेत्रों में मौजूद अपने 260 पर्यवेक्षकों, राज्य के प्रभारियों और स्थानीय नेताओं से इकट्ठा किए हैं।
पढ़ें- ईवीएम-वीवीपैट मामलाः चुनाव आयोग के बाद उदित राज ने सुप्रीम कोर्ट पर लगाया धांधली का आरोप
गौरतलब है कि देश के कई एजेंसियों और मीडिया संस्थानों ने एग्जिट पोल में फिर से एक बार देश में मोदी सरकार बनने के संकेत दिए हैं। वहीं, एग्जिट पोल आने के बाद से राजनीतिक बयानबाजी जारी है और फिर से ईवीएम को मुद्दा बनाया जा रहा है।