नई दिल्ली। देश में लोकसभा चुनाव की सरगर्मियां अपने पूरे शबाब पर हैं। ताबड़तोड़ प्रचार-प्रचार जारी है। इसके साथ ही विवादित बयानों की बयार सी आ गई है। इसी कड़ी में चुनाव आयोग ने विवादित बयान देने वाले नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। चुनाव आयोग ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (भाजपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो ममता बनर्जी के प्रचार पर रोक लगा दी है।
योगी और माया पर गिरी गाज
चुनाव आयोग ने आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में सोमवार को दोनों नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए यह बड़ा कदम उठाया है। आयोग ने कहा कि योगी आदित्यनाथ तीन दिनों तक प्रचार नहीं करेंगे। वहीं, मायावती दो दिनों तक प्रचार नहीं कर पाएंगी। आयोग का यह निर्देश मंगलवार सुबह छह बजे से लागू हो जाएगा। चुनाव आयोग का कहना है कि इस दौरान दोनो नेता ने तो कई रैली को संबोधित कर पाएंगे, न ही सोशल मीडिया पर प्रचार कर पाएंगे और न तो कई साक्षात्कार दे पाएंगे।
 विवादित बयान के कारण फंसे दोनों नेता
गौरतलब है कि पिछले दिनों दोनों नेताओं ने प्रचार-प्रसार के दौरान काफी विवादित बयान दिए थे। चुनाव आयोग ने इनसे सफाई भी मांगी दी थी। लेकिन, आखिरकार आयोग ने बड़ा फैसला लेते हुए योगी (72 घंटे) और मायावती (48 घंटे) के प्रचार पर रोक लगा दी है। हालांकि, अभी तक दोनों नेताओं की ओर से कोई बयान नहीं आया है। लेकिन, माना जा रहा है कि इससे पार्टी को नुकसान उठाना पड़ सकता है क्योंकि 18 अप्रैल को दूसरे चरण के लिए वोट डाले जाएंगे।