नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 ( Loksabha Election 2019 ) के लिए छह चरणों का मतदान संपन्न हो चुका है, 19 मई को सातवें चरण के लिए वोटिंग होगी और 23 मई को चुनाव परिणाम घोषित किए जाएंगे। लेकिन, उससे पहले ही यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी ( Sonia Gandhi ) विपक्षी दलों को एकजुट करने के लिए एक्टिव हो गई हैं। सोनिया गांधी ने कई विपक्षी दलों के नेताओं को फोन भी किया है।
पढ़ें- बंगाल: तोड़फोड़ के बीच तीनों सभाएं करेंगे योगी आदित्यनाथ, ट्वीट में किया रण का ऐलान
सोनिया ने कई नेताओं को किया फोन
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सोनिया गांधी ने प्रमुख नेताओं को फोन करके पूछा है कि क्या आप 22, 23 और 24 मई को दिल्ली में रहेंगे? इससे साफ स्पष्ट है कि दिल्ली की सत्ता के लिए सोनिया गांधी ने अभी से कवायद शुरू कर दी है। कुछ नेताओं का कहना है कि नरेन्द्र मोदी को रोकने के लिए सभी विपक्षी पार्टियों को एकजुट होने की जरूरत है। ऐसा माना जा रहा है कि सोनिया गांधी ने इसकी पहल शुरू कर दी है। हालांकि, यह जानकारी नहीं मिल पाई है कि यूपीए चेयरपर्सन ने किन-किन नेताओं से बात की है। यहां आपको बता दें कि हाल ही में तेलुगू देशम पार्टी ( TDP ) के मुखिया और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी। इस दौरान दिल्ली में विपक्षी दलों को 21 मई को बैठक करने की योजना बनाई है।
पढ़ें- गृह मंत्रालय का EC को पत्र, बंगाल में 700 CAPF की कंपनियां लगाने की अपील
तीसरे मोर्चे की कवायद भी शुरू
इससे पहले तेलंगाना राष्ट्र समिति के नेता के चंद्रशेखर राव (K. Chandrashekar Rao) ने तीसरे मोर्चे की पहल करते हुए कई नेताओं से मुलाकात की है। केसीआर ने केरल के सीएम पिनरई विजयन, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, डीएमके नेता एमके स्टालिन से मुलाकात की है। केसीआर ने कहा था कि केन्द्र में गैर भाजपा और गैर कांग्रेस की सरकार बनेगी। अब देखना यह है कि चुनाव परिणाम से पहले जिस तरह की राजनीतिक बिसात बिछ रही है, ऐसे में दिल्ली की सल्तनत किसे मिलती है।