नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव ( Lok Sabha Election 2019 ) के तीन चरण खत्म हो चुके हैं लेकिन भारत के अभिन्न अंग कश्मीर ( Kashmir ) को लेकर भड़काऊ बयान देने का सिलसिला जारी है। राज्य की पूर्व सीएम और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने एक बार फिर जम्मू-कश्मीर को भारत से अगल करने की बात कही है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi ) से कहा कि कश्मीर को छोड़ क्यों नहीं देते।
क्यों खतरा मोल रहे मोदी: महबूबा मुफ्ती
पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी ( PDP ) नेता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित करते हुए कहा कि अगर पीएम को लगता है कि कश्मीर खतरे में है तो फिर वो इस खतरे को छोड़ दें। अगर उनको लगता है कि अनुच्छेद 370 ( Article 370 ) के बिनाह पर हमारे रिश्ते की बुनियाद है… कश्मीर को छोड़ दें। अब वो कैसे छोड़ना चाहते हैं… क्यों खतरा मोल लेना चाहते हैं इतने सालों ?
यह भी पढ़ें: BJP प्रत्याशी गौतम गंभीर के खिलाफ FIR दर्ज, बगैर अनुमति दिल्ली में की थी रैली

Mehbooba Mufti: Agar PM ko lagta hai ki Kashmir khasare mein hai toh phir woh iss khasare ko chhor dein.Agar unko lagta hai ki 370 ke binah par humare rishte ki buniyaad hai…Kashmir ko chhor dein,ab woh kasie chorna chahte hain…kyun khasara mol lena chahte hain itne saalon se pic.twitter.com/4DI6Q2aK6O— ANI (@ANI) April 27, 2019

‘कांग्रेस और एनसी कमजोर कर रहे अनुच्छेद 370’
महबूबा मुफ्ती ने कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस (एनसी) पर अनुच्छेद 370 को कमजोर करने का आरोप लगाया है। यह अनुच्छेद जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करता है। महबूबा ने कहा कि कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने 2008 में अमरनाथ श्राइन बोर्ड को हजारों कनाल भूमि आवंटित कर अनुच्छेद 370 को कमजोर किया था और एनसी ने 1975 में वजीर-ए-आजम और सदर-ए-रियासत का खिताब खत्म कर दिया था। यह उनकी पार्टी थी, जिसने भाजपा के साथ राज्य में गठबंधन सरकार के दौरान अनुच्छेद 370 और 35ए को बचाया था।
शाह ने कहा- सत्ता में आए तो अनुच्छेद 370 हटा देंगे
शनिवार को झारखंड के पलामू की एक जनसभा में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि अगर भगवा पार्टी फिर से सत्ता में आती है तो वह जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा देगी। शाह ने कहा कि कांग्रेस नीत संप्रग सरकार के दौरान पाकिस्तान के आतंकवादी समूह भारत को लगातार निशाना बनाते थे। उन्होंने कहा कि अगर आप नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाएंगे तो हम अनुच्छेद 370 हटा देंगे।
यह भी पढ़ें- दिल्ली: सत्ता का दंगल जीतने के लिए AAP ने उतारे सबसे ज्यादा प्रोफेशनल डिग्रीधारी प्रत्याशी
अनंतनाग से चुनाव लड़ रही हैं महबूबा
बता दें कि महबूबा अनंतनाग संसदीय क्षेत्र से लोकसभा चुनाव लड़ रही हैं, जहां तीन चरणों में होने वाले मतदान का पहला चरण 23 अप्रैल को हुआ था। अनंतनाग में दूसरे चरण का मतदान 29 अप्रैल को और तीसरे व अंतिम चरण का मतदान छह मई को होना है। महबूबा के सामने मुख्य चुनौती कांग्रेस के गुलाम अहमद मीर और एनसी उम्मीदवार सेवानिवृत्त न्यायाधीश हसनैन मसूदी से है।