नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के सातवें चरण से पहले पश्चिम बंगाल ( West Bangal ) का रण काफी हिंसक हो गया है। मंगलवार को कोलकाता में अमित शाह ( Amit Shah ) के रोड शो के दौरान हुई हिंसा से अचानक देश में सियासी माहौल गरमा गया है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) और तृणमूल कांग्रेस (TMC) आमने-सामने है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ( Mamata Banerjee ) पर हमला बोलते हुए इस हिंसा के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराया है। वहीं, ममता बनर्जी ने भी साफ कहा है कि गनीमत है कि मैं बंगाल में शांत बैठी हूं, वरना एक सेकेंड में दिल्ली स्थित भाजपा दफ्तर कब्जा जमा सकती हूं। इस हिंसक झड़प के विरोध में बंगाल से लेकर दिल्ली तक विरोध प्रदर्शन जारी है।
आइए, हम आपको बताते हैं कि मंगलवार से लेकर अब तक कहां-कहां और क्या-क्या हुआ?
पढ़ें- BJP-TMC की जंग में टूटी ईश्‍वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा, नाराज ममता ने भाजपा कार्यकर्ताओं को कहा ‘गुंडा’
– मंगलवार को कोलकाता के धर्मतल्ला के शहीद मीनार मैदान से मनिकातल्ला के विवेकानंद हाउस तक अमित शाह को रोड शो था। इसके अलावा यहां अमित शाह एक रैली को भी संबोधित करने वाले थे।
– मंगलवार दोपहर करीब एक बजे कोलकाता पुलिस सभास्थल पर पहुंची और भाजपा नेता-कार्यकर्ताओं से परमिशन के पेपर्स मांगी। पुलिस ने साफ कहा कि अगर परमिशन पेपर्स नहीं दिखाए जाएंगे तो मंच को तोड़ दिया जाएगा।
– पुलिस के जाते ही टीएमसी कार्यकर्ताओं और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़प शुरू हो गई। रैली स्थल पर लगे पोस्टर को भी फाड़ दिया गया। कुछ देर मौके पर अफरा-तफरी हुई और फिर मामला शांत हो गया।
पढ़ें- कोलकाता हिंसा पर अमित शाह का जवाब- ‘CRPF नहीं होती तो जान बचनी मुश्किल थी’
– अमित शाह के रोड शो से पहले कुछ जगहों पर पीएम मोदी और शाह के पोस्टरों को कथित तौर पर टीएमसी कार्यकर्ताओं ने फाड़ दिया।
– मंगलवार शाम को शाह का रोड शो शुरू हुआ। सड़क पर काफी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता और नेता सड़क पर उतरे। जय श्री राम’ और ‘मोदी-मोदी’ के नारों के साथ अमित शाह का रोड शो शुरू हो गया।
– शाम करीब छह बजकर 20 मिनट पर अमित शाह का काफिल कोलकाता यूनिवर्सिटी गेट पहुंचा। जहां पहले से मौजूद तृणमूल छात्र परिषद के कार्यकर्ताओं ने उन्हें काले झंडे दिखाए। हालांकि, पुलिस ने तुरंत मामले को संभाल लिया।- करीब छह बजकर चालीस मिनट पर अमित शाह का काफिला विद्यासागर कॉलेज के सामने पहुंचा। वहां पर अमित शाह के रोड शो पर पत्थराबाजी हुई। कहा जा रहा है कि पत्थरबाजी के बाद कुछ भाजपा कार्यकर्ताओं ने 2 मोटरसाइिकलों और एक साइकल में आग लगा दी। हालांकि, भाजपा ने इसके लिए तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया।
पढ़ें- पश्चिम बंगाल में गरजे योगी- ‘अमित शाह के रोड शो में हमला करना ममता की सबसे बड़ी गलती’
– मामला उस वक्त और ज्यादा बिगड़ गया जब जब टीएमसी के कुछ समर्थकों ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर झंडों के डंडे और बोतल फेंकने लगे। सुरक्षा कर्मियों ने अमित शाह को बचाया। बीजेपी अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं को शांत कराने का प्रयास किया। विद्यासागर कॉलेज पास बीजेपी और तृणमूल छात्र परिषद के कार्यकर्ताओं में हिंसक झड़प के दौरान समाज सुधारक ईश्वर चंद विद्यासागर की प्रतिमा टूट गई। इसके लिए बीजेपी और टीएमसी एक दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। शाम सात बजे करीब पुलिस ने किसी तरह मामले को शांत कराया।
– बुधवार को इस मामले ने तूल पकड़ लिया। टीएमसी ने इस घटना के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया। वहीं, अमित शाह ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए इस घटना के लिए ममता बनर्जी को जिम्मेदार ठहराया। बीजेपी ने राज्य की ममता बनर्जी सरकार पर गुंडागर्दी का आरोप भी लगाया है। अमित शाह ने कहा कि CRPF की वजह से मेरी जान बच गई।
– वहीं, दिल्ली में इस हिंसा के खिलाफ भाजपा के नेता जंतर-मंतर पर साइलेंट प्रोटेस्ट कर रहे हैं।
– बंगाल में तृणमूल छात्र परिषद के कार्यकर्ता भी विद्यासागर की प्रतिमा टूटने के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं।
– इस हिंसा के विरोध में सीपीआईएम के नेता ओर कार्यकर्ता भी सड़क पर उतर चुके हैं। सीताराम येचुरी ने कहा कि इस घटना की जांच होनी चाहिए और यह भी पता लगाना चाहिए कि आखिर बंगाल में ऐसा क्यों हो रहा है।
– टीएमसी के नेताओं डीपी चेंज करते हुए विद्यासागर की फोटो लगा ली है।