नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने वाराणसी लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ने को लेकर चली लंबी चर्चाओं के बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पहली बार बड़ा बयान दिया है। प्रियंका गांधी ने इस बात का खुलासा किया है कि वह वाराणसी लोकसभा सीट से क्यों चुनाव नहीं लड़ीं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने उनको पूरे पूर्वी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपी है। ऐसे में उन पर कोई एक विशेष नहीं, बल्कि 41 सीटे जिताने का जिम्मा है। उन्होंने कहा कि ऐसा एक स्थान पर रहकर संभव होना बहुब मुश्किल था।
जिन्ना विवाद: शत्रु के समर्थन में उतरी एनसीपी, अमित शाह से कहा— यह भाजपा की दी हुई शिक्षा
दरअसल, वाराणसी लोकसभा क्षेत्र से पीएम मोदी के खिलाफ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के खड़े होने की अटकलों पर विराम लगाते हुए कांग्रेस ने अजय राय को पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया है। अजय राय 2014 के लोकसभा चुनाव में भी नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं, तब उन्हें हार मिली थी। आपको बता दें कि सियासी गलियारों में लंबे समय से अटकलें लगाई जा रहीं थी कि प्रियंका गांधी वाराणसी सीट से कांग्रेस की उम्मीदवार हो सकती हैं। यहां तक खुद प्रियंका गांधी ने इस बात की हामी भरते हुए कहा था कि अगर उनको वाराणसी से टिकट दिया जाता है तो वह चुनाव लड़ने को तैयार हैं।
राजनीति के बॉक्स ऑफिस पर टिक नहीं पाए फिल्म जगत के ये चमकते सितारे, नहीं खेल पाए लंबी पारी
इसके साथ ही 28 मार्च को यूपीएम चेयरपर्सन सोनिया गांधी के लिए प्रचार करने रायबरेली पहुंची प्रियंका गांधी से जब पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने चुनाव लड़ने की मांग की तो उन्होंने दो टूक पूछ लिया कि वाराणसी से चुनाव लड़ूं क्या? हालांकि प्रियंका गांधी ने यह बात पूरी तरह से अनौपचारिक तौर पर कही थी। तभी से उनके वाराणसी से चुनाव लड़ने के कयास लगाए जा रहे थे।Indian Politics से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..
Lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download patrika Hindi News App.