नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव ( Lok Sabha Election 2019 ) और प्रचार के दौरान पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) में टीएमसी-बीजेपी में लगातार हो रही हिंसा पर चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लिया है। आयोग ने बंगाल की बची हुई 9 सीटों की चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है। 16 मई रात 10 बजे के बाद से पश्चिम बंगाल में किसी भी राजनीतिक दल को प्रचार की इजाजत नहीं मिलेगी, जबकि सातवें चरण के लिए नियम के मुताबिक 17 मई की शाम 5 बजे तक प्रचार किया जा सकता था।

Election Commission: No election campaigning to be held in 9 parliamentary constituencies of West Bengal – Dum Dum, Barasat, Basirhat, Jaynagar, Mathurapur, Jadavpur, Diamond Harbour, South and North Kolkata from 10 pm tomorrow till the conclusion of polls. pic.twitter.com/cTpKS6jFwp— ANI (@ANI) May 15, 2019

पश्चिम बंगाल के 9 संसदीय क्षेत्र: दम दम, बारासात, बसीरहाट, जयनगर, मथुरापुर, जाधवपुर, डायमंड हार्बर, दक्षिण और उत्तरी कोलकाता
बिहार : शहाबुद्दीन के भतीजे युसूफ हत्याकांड के गवाह की सिवान में गोली मारकर हत्या

EC: ADG CID, Rajiv Kumar stands relieved and attached to MHA. He should report to MHA by 10 am tomorrow.Principal Secy,Home &Health Affairs WB govt stands relieved from his current charge immediately for having interfered in process of conducting polls by directing WB CEO. pic.twitter.com/2AOEbIX7uR— ANI (@ANI) May 15, 2019

प्रधान सचिव और गृह सचिव की छुट्टी
चुनाव आयोग ने किसी भी तरह की राजनीतिक हिंसा से बचने के लिए ये कदम उठाया है। अलावा आयोग ने राज्य के प्रधान सचिव और गृह सचिव की छुट्टी कर दी है। आयोग ने सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर करने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। बंगाल के ADG CID राजीव सिंह को गृह मंत्रालय भेजा गया है।
बंगाल में बोले PM मोदी- दीदी, मैं आपकी गालियों और धमकियों से डरनेवाला नहींहिंसा नहीं थमी तो बढ़ेगी सख्ती
चुनाव आयोग ने कहा कि संभवत: पहली बार ECI ने अनुच्छेद 324 को इस तरह लागू करना पड़ा रहा है। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान आयोग ने साफ कहा कि अगर इन सख्तियों के बाद भी राज्य में अराजकता और हिंसा की पुनरावृत्ति की होती है तो हमें अधिक कठोर कदम उठाने पड़ सकते हैं।
राहुल गांधी ने पंजाब में चलाया ट्रैक्टर, कैप्टन अमरिंदर सिंह बने सवारी
विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ना बर्बरता
आयोग ने ईश्वरचंद विद्यासागर की प्रतिमा तोड़े जाने की घटना को दुर्भाग्यापूर्ण बताया है। आयोग के अधिकारी ने कहा कि उम्मीद है कि राज्य प्रशासन ऐसा करने वालों का पता लगाएगी।
Indian Politics से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..